जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आउटसोर्सिग कर्मचारियों ने गुरुवार को काला बिल्ला लगाकर काम किया। एमजीएम असंगठित मजदूर संघ के बैनर तले करीब ढाई सौ कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन का नेतृत्वकत्र्ता भागवानजी दूबे ने कहा कि बोनस, 25 दिसंबर की छुंट्टी का पैसा सहित अन्य मांगें शामिल हैं। आउटसोर्सिग कर्मचारियों का शोषण किया जा रहा है। इस पर सरकार का बिल्कुल ध्यान नहीं है। उन्हें निर्धारित वेतन भी कम मिलता है। उन्होंने कहा कि उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वह 8 व 9 अप्रैल को एमजीएम अस्पताल में धरना देंगे। फिर भी नहीं सुनवाई हुई तो 10 अप्रैल से अधीक्षक का घेराव निश्चितकालीन समय तक करेंगे।

फरवरी-2017 से नहीं मिला फंड ठेकेदार राजीव रंजन का कहना है कि सरकार की तरफ से फरवरी-2017 से उनको फंड नहीं मिला है। इसके बावजूद किसी भी कर्मचारी का वेतन एक माह का भी नहीं रूका है। उन्होंने कहा कि सरकार से फंड मिलते ही सभी को बकाया बोनस उपलब्ध करा दिया जाएगा। इसके लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

------------------

जूनियर डॉक्टरों ने दूसरे दिन भी काला बिल्ला लगाकर किया काम जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : एमजीएम मेडिकल कॉलेज अस्पताल में तैनात जूनियर डॉक्टरों ने दूसरे दिन भी काला बिल्ला लगाकर काम किया। गुरुवार को जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन (जेडीए) के बैनर तले वे लोग काला बिल्ला लगाकर काम किए। साथ ही, ओपीडी के समीप सभी जूनियर डॉक्टरों ने एकजुट होकर प्रदर्शन भी किया।

जेडीए के उपाध्यक्ष डॉ. कुणाल श्रीवास्तव ने कहा कि जी अलर्ट कंपनी के सुरक्षाकर्मियों को हटाकर उनकी जगह होमगार्डो को तैनात किया जाए। इस मांग को लेकर वे लोग अगले एक सप्ताह तक काला बिल्ला लगाकर काम करेंगे। इसके बाद बैठक कर आगे की रणनीति तय की जाएगी।

प्रदर्शन करने में जेडीए के अध्यक्ष डॉ. सुजीत मुर्मू, उपाध्यक्ष डॉ. कुणाल श्रीवास्तव, डॉ. कोमल किसलय, डॉ. रिशु रंजन, डॉ. अर्चना, डॉ. शंकर, डॉ. पूजा साहू सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

--------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस