जमशेदपुर, जेएनएन। झारखंड अधिविद्य परिषद (जैक) के रवैये से नाराज होकर भूख हड़ताल पर बैठी छात्राओं में चार की हालत शुक्रवार को दूसरे दिन बिगड़ गई। दोपहर बाद प्रशासन की ओर से मेडिकल टीम भेजी गई। मेडिकल टीम ने ब्‍लडप्रेशर व अन्‍य सामान्‍य जांच करने के बाद तीन छात्राओं को अस्‍पताल में भर्ती करने की जरूरत बताई। इसके बाद तीन छात्राओं को मेडिकल वैन में बिठाकर सदर अस्‍पताल में ले जाकर भर्ती कराया गया है। इस बीच मजिस्‍‍‍‍‍‍ट्रेट के आश्‍वासन और मंत्री रामचंद्र सहिस की पहल पर छात्राओं का अनशन समाप्‍त कराया गया। 

वीमेंस कॉलेज में चल रहे आमरण अनशन के दौरान जिन तीन छात्राओं की तबीयत ज्‍यादा खराब हुई उनके नाम मालती कुमारी ,अंजलि कुमारी, पूजा कुमारी हैं। 

पहुंचे मजिस्‍ट्रेट, मांगा 72 घंटे का समय

झारखंंड एकेडमिक काउंसिल की ओर से मार्जिनल अंक देकर पूरे झारखंड में 11वीं केे 50000 हजार छात्रों को फेल कर दिया है। इसी कारण छात्र आजसू के बैनर के तहत सारे लोग अनशन कर रहे थे।

उपायुक्त की ओर से मजिस्ट्रेट रश्मि रंजन की प्रतिनियुक्ति की गई थी।

अनशन स्‍थल पर पहुंचे मजिस्‍ट्रेट ने अनशनकारी छात्राओं को उनकी समस्‍या के समाधान का आश्‍वासन दिया और सार्थक पहल करने के लिए 72 घंटे का समय मांगा। उन्‍होंने छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल को उपायुक्‍त से बात कराने की बात भी कही। इस मामले में मंत्री रामचन्द्र सहिस ने कहा छात्रों कि मांग जायज है। इन छात्रों को एक ओर मौका मिलना चाहिए ताकि इनका एक वर्ष पूरा बर्बाद ना हो। उन्‍होंने इस सिलसिले में मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से बात करने का भरोसा भी दिया। इसी आग्रह पे आज सभी जूस पिलाकर अनशन तुड़वाया गय। एडमिट हुए छात्रों से मिलने पहुंचे आजसू पार्टी के जिलाध्यक्ष कहा कि शासन के नाम पर हिटलरशाही नहीं होनी चाहिए। शिक्षा के स्तर में सुधार की जरूरत है और एक मौका छत्रो को मिलना चाहिए। इस दौरान अंजलि, रुपा, मलती, बबीता, पूजा सुरभि, स्वाति, दीपक पाण्डेय, रंजन दास, राकेश सिंह, राजेश महतो, विकाश रज्जाक, अभिमन्यु सिंह, प्रदीप कुमार, कुंदन यादव मौजूद थे।

ज्ञात हो कि जैक की ओर से आयोजित 11वीं की परीक्षा में फेल विद्यार्थियों ने गुरुवार से भूख हड़ताल पर जाने का फैसला लिया था। सभी जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज गेट पर भूख हड़ताल पर बैठ गई थी। जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज गेट के सामने इंटर की छात्रा रूपा कुमारी, अंजलि कुमारी, मालती कुमारी, रीता सोरेन, स्वाति कुमारी, अलका झा, अनिशा कुमारी, बबीता बिरूली, सुरभि कुमारी, विनीता कुमारी, अंकिता कुमारी, पूजा कुमारी, रजनी झा भूख हड़ताल पर बैठी।

क्‍या है विद्यार्थियों की मांग

विद्यार्थियों की मांग है कि 11वीं में फेल छात्र-छात्राओं को को उत्तीर्ण करवाने की व्यवस्था की जाए। पूर्वी सिंहभूम के सैकड़ों छात्र फेल हो गए हैं। जैक छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। जैक कम से कम फैल छात्रों के लिए विशेष परीक्षा तो आयोजित करना ही चाह‍िए। 11 वीं की परीक्षा में जिले में करीब 8 हजार समेत राज्य भर में करीब 49 हजार विद्यार्थी फेल या मार्जिनल घोषित किए गए हैं।  

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस