जमशेदपुर, जासं। कोरोना काल में जब झारखंड सरकार की छूट के बाद जून के मध्य से सोने-चांदी की दुकानें खुलने लगीं, तो भाव आसमान छूने लगे थे। हर दिन भाव चढ़ रहे थे। इसके बाद भाव गिरने शुरू हुए, लेकिन 01 अक्टूबर को सोना एकबारगी 600 रुपये चढ़ गया, जबकि चांदी 10 रुपये गिरकर 650 पर आ गया। नवरात्र के पहले दिन ही सोना 300 रुपये चढ़ गया, जबकि चांदी भी 10 रुपये बढ़कर 660 रुपये प्रति दस ग्राम हो गया।

नवरात्र की तृतीया को फिर 100 रुपये सोना बढ़ गया, जबकि चांदी 660 रुपये पर ठहरा हुआ है। अब बुधवार 20 अक्टूबर को सोना एकबारगी 500 रुपये तक चढ़ गया है। हालांकि 22 कैरेट में 400 रुपये ही बढ़ा है, जबकि चांदी भी 30 रुपये चढ़कर 690 का हो गया है। पिछले चार महीने में चांदी कभी इतना महंगा नहीं हुआ था।

आभूषण कारोबारी हैरान

बेमौसम बरसात की तरह भाव घटने-बढ़ने से आभूषण कारोबारी भी हैरान हैं। उनका कहना है कि अभी लगन भी नहीं है, तो क्यों भाव इस तरह घट-बढ़ रहा है। हालांकि एक संभावना यह भी जताई जा रही है कि जमशेदपुर में कोरोना का संक्रमण भले कम हो, लेकिन दूसरे राज्यों में कोरोना एकबारगी बढ़ने लगा है। इससे पहले भी शहर के प्रतिष्ठित व सबसे पुराने ज्वेलर्स सीएचडी-1918 के मालिक पीयूष आडेसरा ने कहा था कि देश में जब-जब आपदा आती है या बढ़ती है, तो सोने का भाव चढ़ता है।

अगस्त से हाेने लगी थी गिरावट

इससे पहले जून से जुलाई तक 24 कैरेट सोने का भाव 50,000 रुपये तक पहुंच गया था। इसके बाद जुलाई के अंतिम सप्ताह में सोने के भाव में गिरावट होने लगी। इससे यह अनुमान था कि अब सोने के भाव गिरेंगे। ताज्जुब की बात तो यह है कि देवशयनी एकादशी 20 जुलाई के बाद हिंदुओं के शादी-ब्याह समेत सभी शुभ कार्य की समाप्ति हो गए हैं। अब यह 14 नवंबर को देवोत्थान एकादशी के साथ शुरू होंगे। इससे आभूषण कारोबारियों में भी निराशा का भाव था। जमशेदपुर में कोरोना संक्रमण न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है।

जमशेदपुर में सोने-चांदी का भाव (रुपये प्रति 10 ग्राम)

तारीख : 24 कैरेट : 22 कैरेट : 18 कैरेट : चांदी

20 अक्टूबर : 49000 : 46700 : 38400 : 690

17 अक्टूबर : 48,500 : 46,300 : 37,900 : 660

09 अक्टूबर : 48,400 : 46,100 : 37,900 : 660

07 अक्टूबर : 48,300 : 46,000 : 37,800 : 660

01 अक्टूबर : 48,000 : 45,700 : 37,600 : 650

Edited By: Rakesh Ranjan