जमशेदपुर, जासं। गीतांजलि एक्सप्रेस को एक हफ्ते तक विशेष सुरक्षा दी जाएगी। ऐसा इसलिए, क्योंकि यह ट्रेन नक्सलियों के निशाने पर है। गुरुवार से ही इस ट्रेन के चार पांच किमी आगे-आगे पेट्रोलिंग इंजन को चलाना शुरू कर दिया गया है। इस इंजन में चालक, सह चालक व आरपीएफ के जवान मौजूद थे। जानकारी के मुताबिक उक्त इंजन काफी भारी है, इस कारण इसे अगर बम से नक्सली उड़ाते भी हैं तो जान माल का कम ही नुकसान होगा।

एक सप्ताह तक होगी पेट्रोलिंग

रेल एसपी एहतेशाम वकारिब ने बताया कि नक्सलियों ने आठ से 11 अक्टूबर तक का समय दिया है लेकिन जीआरपी-आरपीएफ व जिला पुलिस द्वारा एक सप्ताह तक गीतांजलि एक्सप्रेस के पहले सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मालगाड़ी व इंजन को दौड़ाया जाएगा। वहीं नक्सलियों के पत्र की सच्चाई की भी पड़ताल की जा रही है।

मोहालीमुरूप में ज्यादा सुरक्षा

मोहालीमुरुप के खरसांवा व कुचाई सेक्शन में यात्री ट्रेनों के आगे इंजन व मालगाड़ी को दौड़ाया जा रहा है ताकि यात्री ट्रेन को नक्सलियों द्वारा किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया जा सके। इतना ही नहीं गीतांजलि एक्सप्रेस में आरपीएफ के जवानों की संख्या भी बढ़ा दी गई है ताकि पेट्रोलिंग ठीक से हो सके।

रेलवे लाइन के समीप संदिग्ध से हो रही पूछताछ

मोहालीमोरुप में रेलवे लाइन के समीप किसी संदिग्ध को देखे जाने पर उससे आरपीएफ कड़ाई से पूछताछ कर रही है। इस क्षेत्र के रेल लाइन में पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

यह है मामला

नक्सलियों ने गीतांजलि एक्सप्रेस को आठ अक्टूबर से 11 अक्टूबर के बीच उड़ाने की साजिश थी। खुफिया विभाग की रिपोर्ट की मानें तो भाकपा माओवादी संगठन से हैं। नक्सलियों में हुंडरू महाली, रणजीत महाली और साहनी प्रमुख है। तीनों योजना का मास्टरमाइंड हैं। 

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस