जमशेदपुर, जासं। आखिरकार पांच माह और 10 दिन के बाद टाटा वर्कर्स यूनियन चुनाव को कानूनी मान्यता शुक्रवार को मिल गइ I ट्रेड यूनियन रजिस्ट्रार श्याम सुंदर पाठक ने दो दिनों की सुनवाई के बाद शिकायतकर्ताओं के सभी आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को यूनियन के कमेटी मेंबरों और पदाधिकारियों के नाम रजिस्टर बी में दर्ज कर लिया I उन्होंने आदेश में मतैक्य और पारदर्शिता के साथ चुनाव प्रक्रिया होने की बात कही है I

आदेश में निर्वाचन क्षेत्र के निर्धारण में की गयी गड़बड़ी के आरोप पर कहा है कि पिछले चुनाव के आधार पर ही सीटों का निर्धारण किया गया है I सीट निर्धारण में 30 प्रतिशत मतदाता संख्या में कम या जोड़ने का प्रावधान है जिसका अनुपालन किया गया है I चुनाव से संबंधित सभी प्रक्रिया में चुनाव सब कमेटी के सभी सदस्यों ने हस्ताक्षर किए हैं I किसी ने भी कोई आपत्ति नहीं जताइ I चुनाव सब कमेटी के निर्वाचन को लेकर उठाए गए आरोप पर कहा गया है कि यूनियन संविधान में कार्यकाल समाप्त होने की तिथि से दो माह पहले चुनाव प्रक्रिया शुरू करने का प्रावधान है I जबकि सब कमेटी के चुनाव के लिए नियमावली में कोई समय सीमा का उल्लेख नहीं है I इस चुनाव में भी सभी पक्षों ने भाग लिया और दोनों पक्षों के सदस्य गुप्त मतदान से मतपत्र द्वारा चुनकर आए I कोई भी शिकायतकर्ता कमेटी मेंबर या पदाधिकारी नहीं थे I इसलिए दो तीन लोगों की शिकायत पर चुनाव प्रक्रिया को अवैध नहीं माना जा सकता है I नियमावली भी स्पष्ट है I श्रम विभाग के पर्यवेक्षण में निर्वाचन पदाधिकारी का चुनाव किया गया l इस तरह पूरी चुनाव प्रक्रिया मतैक्य और पारदर्शिता के साथ पूरी की गई है I

सत्ता पक्ष में खुशी, वीजी गोपाल की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण

सुनील सिंह, अनिल सिंह व जे आदिनारायण की ओर से की गयी गड़बड़ी की शिकायत को निरस्त करते हुए शुक्रवार को रांची में हुए फैसले के बाद यूनियन के अध्यक्ष, महामंत्री व तमाम सदस्य शाम को यूनियन कार्यालय पहुंच कर खुशी जाहिर करते हुए वीजी गोपाल की प्रतिमा पर माल्यार्पण कियाI इस अवसर पर उपाध्यक्ष शत्रुघ्न राय, संजय सिंह, शहनवाज आलम, संजीव तिवारी, सहायक सचिव नितेश राज, सरोज कुमार सिंह और अजय कुमार चौधरी और कोषाध्यक्ष हरिशंकर सिंह और और तत्कालीन चुनाव पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह भी मौजूद रहे

कोर्ट में मामला है लंबित

चुनाव प्रक्रिया में गड़बड़ी की शिकायत करने वाले सुनील सिंह ने इस मामले में पहले ही हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी है I हाई कोर्ट में यह मामला अभी पेंडिंग हैI यूनियन को श्रम विभाग और निबंधक से जीत मिल गयी है I अब दूसरी जीत की जरूरत कोर्ट में पड़ेगी। सुनील सिंह ने 19 मार्च 2021 को इस मामले में रांची हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। इसमें श्रमिक संघ निबंधक, श्रमायुक्त, टाटा वर्कर्स यूनियन अध्यक्ष और चुनाव पदाधिकारी को पार्टी बनाया था I हाई कोर्ट में मामला पेंडिंग है। हालांकि निबंधक से यूनियन के पक्ष में फैसला आने और रजिस्टर बी में नाम दर्ज होने के बाद यूनियन अपने कार्यों व फैसले खुल कर ले सकती है I

 

Edited By: Rakesh Ranjan