जमशेदपुर, जासं। Covod 19 टाटा ट्रस्ट की ओर से संचालित इंडियन हेल्थ फंड की मोल्बियो डायग्नोस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड ने एक टेस्ट किट टूनेटा बीटा कोव तैयार किया है। इससे कोविड-19 (कोरोना वायरस) रोगी की जांच रिपोर्ट मात्र एक घंटे में आएगी। इस जांच में मात्र 1350 रुपये ही खर्च आएगा। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) ने इस टेस्टिंग किट को मान्यता दे दी है।

कोविड-19 संक्रमित एक रोगी की ब्लड जांच रिपोर्ट आने में न्यूनतम आठ घंटे लग जाते हैं, जबकि निजी लैब में इस जांच पर 4500 रुपये का खर्च आता है। अब टाटा ट्रस्ट की इंडियन हेल्थ फंड ने अपने किट से थोड़ी राहत दी है। मोल्बियो डायग्नोस्टिक प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य तकनीकी अधिकारी डॉ. चंद्रशेखर नायर के अनुसार यह किट समय की जरूरत है जो आवश्यक वित्तीय सहायता के साथ फास्ट ट्रैक मोड में आणविक डायग्नोस्टिक तक पहुंचने में मदद देगी। इस किट की मदद से कोविड 19 की महामारी को नियंत्रित करने में भी मदद मिलेगी। जल्द रिपोर्ट आने से संक्रमित रोगी की रिपोर्टिंग और रोगी के अलगाव की प्रक्रिया शुरू करने में तेजी आएगी। इससे संक्रमण फैलने का खतरा कम होगा।

टीबी जांच में इस किट का हुआ था इस्तेमाल

इस किट का वर्तमान में उत्तर प्रदेश के जिला अस्पतालों व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में टीबी और रिफैम्पिसिन प्रतिरोध के निदान के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। कोविड-19 की स्क्रीनिंग करने के लिए मोल्बियो डायग्नोस्टिक द्वारा उक्त किट में ट्लेब रियल टाइम क्वांटिटेटिव माइक्रो पीसीआर सिस्टम के रूप में अतिरिक्त फीचर जोड़ा गया है।

 

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस