जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। CORONA VIRUS दुनिया के तमाम देशों में चिंता का कारण बने कोरोना वायरस की जांच को लेकर महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज भी तैयार है। वायरस की जांच के लिए इस अस्‍पताल में दिल्ली से किट मंगाया जा चुका है।

अगर, झारखंड में कोई भी संदिग्ध मरीज मिलता है तो उसकी जांच एमजीएम कॉलेज स्थित वायरोलॉजी लैब में अब संभव हो सकेगी। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) ने झारखंड से एमजीएम कॉलेज को चयनित किया है। 

बेंगलुरू-कोलकाता नहीं भेजना होगा नमूना 

महात्‍मा गांधी मेमोरियल कॉलेज एवं अस्‍पताल में कोरोना वायरस की जांच की सुविधा उपलब्‍ध हो जाने के बाद अब संदिग्ध मरीजों का नमूना बेंगलुरू व कोलकाता भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी। संदिग्‍ध मामले पाए जाने के बाद जांच की रिपोर्ट भी 48 घंटे के अंदर मिलना संभव हो सकेगा। एक किट से लगभग 25 नमूनों की जांच की जा सकती है। फिलहाल, कोलकाता लैब में लोड अधिक होने की वजह से रिपोर्ट आने में सात दिन का समय लग जाता है। 

एमजीएम में 10 बेड का बना आइसोलेशन वार्ड

कोरोना वायरस को लेकर एमजीएम अस्पताल के मेडिकल वार्ड में दस बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इसके अलावा टाटा मुख्य अस्पताल, टाटा मोटर्स, टिनप्लेट, ब्रह़मानंद, मेडिका सहित अन्य निजी नर्सिंग होम में भी वार्ड बनाया गया है। ताकि अगर महामारी फैला तो उससे निपटा जा सके। एमजीएम में दस बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। 

कोरोना वायरस को लेकर लैब तैयार है। जिला सर्विलांस विभाग द्वारा नमूना संग्रह किया जाएगा और जांच के लिए एमजीएम कॉलेज के लैब में भेजा जाएगा। यहां जांच के लिए किट आ गई है। डॉ. पीके बारला, प्रिंसिपल, एमजीएम मेडिकल कॉलेज।

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस