चाईबासा, जासं। 72 घंटे से भी ज्यादा समय बीत गया है मगर जंगल से भटक कर शहर में घुसे जंगली भालू को वन विभाग की टीम न तो खोज पा रही है और न ही उसे सुरक्षित तरीके से जंगल की ओर खदेड़ पा रही है। तीन महिला समेत चार लोगों को जख्मी करने वाला जंगली भालू दिन भर घनी झाड़ियों में छिपा रहता है और रात के अंधेरे में अपना ठिकाना बदल ले रहा है। वन विभाग को गुरुवार की रात दो बजे के बाद भालू की अंतिम लोकेशन कोल्हान डीआइजी के आवास और राजस्थान भवन के पास मिली है। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि भालू बांधपाड़ा क्षेत्र में है।

भालू की तलाश जारी

हालांकि वन विभाग अभी तक यह स्पष्ट करने की स्थिति में नहीं है कि भालू शहर में किस स्थान पर है। चाईबासा वन प्रमंडल के संलग्न पदाधिकारी अहमद बिलाल अनवर ने बताया कि वन कर्मियों की टीम रात-दिन जंगली भालू को खोज रही है। गुरुवार को हम लोगों को गांधी टोला में अशोक जैन के जंगलनुमा प्लाट में भालू के छिपे होने की खबर मिली थी। उसे पकड़ने के लिए हम लोगों ने उक्त स्थल के पास पिंजड़ा लगाया था। भालू को निकालने के लिए 5-6 आलू बम के धमाके भी किये मगर कोई हलचल नहीं दिखा। नाइट विजन दूरबीन से भी देखने की कोशिश की गयी है। वन कर्मियों की सूचना के अनुसार रात करीब 12.30 बजे भालू को अशोक जैन के प्लाट में लगाये गये पिंजड़े के बगल से निकलकर जाते देखा गया। इसके बाद रात में करीब 3 बजे कोल्हान डीआइजी के सुरक्षाकर्मी ने भी भालू को देखने की पुष्टि की। संभवत: राजस्थान भवन से आधा किलोमीटर पीछे आदिवासी कालोनी की तरफ भालू निकला है। हम लोगों को उक्त स्थल पर एक-दो जगह भालू के पैर के निशान दिखे हैं। वन विभाग का त्वरित प्रतिक्रिया दल पूरे क्षेत्र में नजर बनाये हुए हैं। हम लोगों ने पिंजड़ा के साथ-साथ बेहोश करने वाली गन भी मंगा ली है। सही जगह पर स्पाट होते ही उसे काबू में कर लिया जायेगा।

रात नौ बजे से सुबह 5 बजे तक सावधानी बरते आम जनता

वन पदाधिकारीअहमद बिलाल अनवर ने कहा कि मैं यह स्पष्ट कर दूं कि भालू एक ही है। कुछ लोग दो-तीन भालू की बात कह रहे हैं। हम लोग इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं। हम लोगों को बड़ा नीमडीह में होंडा सर्विस सेंटर के पास लगे एक सीसीटीवी फुटेज गुरुवार की रात का मिला है। इसमें भालू सड़क पर दौड़ता नजर आ रहा है। वन पदाधिकारी ने सचेत करते हुए कहा कि यह भालू रात में ही सक्रिय होता है। खासकर एसी जगह जहां पर कचरा डंप किया गया है, वहां वो पहुंचता है। ऐसे में मेरी आम जनमानस से अपील है कि कचरा दिन में ही डंप करें और रात नौ बजे से सुबह 5 बजे तक बाहर निकलते समय सावधानी बरतें।

Edited By: Madhukar Kumar