चाईबासा : पश्चिमी सिंहभूम जिले के अति पिछड़े टोंटो प्रखंड के हेंदेबुरू टोला में डायरिया फैल गया है। पूरा गांव इसकी चपेट में आ गया है। 15 अगस्त की शाम को डायरिया से आक्रांत होकर एक महिला की मौत हो गयी है। वहीं, दो दर्जन से अधिक लोग बीमार हैं। इनमें महिलाओं व बच्चों की संख्या ज्यादा है। मृतक का नाम सुखमती लागुरी बताया जा रहा है। गांव के लोगों ने बताया कि टोंटो पंचायत के टोपाबेड़ा और हेंदेबुरू में करीब एक सप्ताह से लोग डायरिया की चपेट में हैं।

झोला छाप डाक्टर से नहीं मिली राहत

करीब-करीब हर घर में एक-दो लोग डायरिया से ग्रसित होकर घर में पड़े हैं। कुछ लोगों ने स्वस्थ्य होने के लिए झोला छाप डाक्टर से दवा ली मगर राहत नहीं मिली। कुछ घरों में झाड़-फूंक भी करायी गयी है। इसके बावजूद लोग बीमार हो रहे हैं। नजदीकी स्वास्थ्य उपकेंद्र से अभी तक किसी तरह की पहल नहीं की गयी है। बच्चे और महिलाएं ज्यादा आक्रांत हैं। कुछ ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग को सूचना दी है। स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को दोनों टोला में स्वास्थ्य शिविर लगाने का आश्वासन दिया है।

हालांकि अभी तक टीम गांव नहीं पहुंची है। ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव में शुद्ध पेयजल की समस्या है। चापाकल लगे हैं मगर अंदर पाइप में जंग लग जाने के कारण दूषित पानी निकलता है। गांव के जलस्रोतों में किसी तरह की दवा का छिड़काव भी नहीं किया जाता है। हालत यह है कि लोगों को दूषित पानी पीना पड़ रहा है।

इस कारण भी पानी स्वच्छ नहीं मिल रहा है। गांव में पार्वती पुरती, रांदो पुरती, सोमवारी लागुरी, प्रीति लागुरी, मंजू लागुरी, अनिल लागुरी, मंगल सिंह लागुरी, लादगू लागुरी, अन्नत लागुरी, राम लागुरी, पतोर लागुरी, अरचना लागुरी, सावित्री लागुरी, मुक्ता लागुरी आदि डायरिया से ग्रसित बताये जा रहे हैं। आक्रांत लोगों में करीब एक दर्जन बच्चे शामिल हैं।

Edited By: Jitendra Singh