चाईबासा, जासं। पश्चिम सिंहभूम जिला मुख्यालय चाईबासा में पीला सोने का काला कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। यहां कुजू नदी से बालू का अवैध उत्खनन बेरोकटोक किया जा रहा है। 1 दिन में 200 से 300 ट्रैक्टर बालू निकाल कर बेचा जा रहा है। बालू का यह अवैध उत्खनन जिला खनन विभाग और डीएसपी कार्यालय से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर हो रहा है। बालू का अवैध कारोबार करने वाले लोग सुबह छह बजे से ही कुजू नदी के किनारे अपने ट्रैक्टर लगा देते हैं। इसके बाद दिन भर बिना किसी तरह के चालान के बालू को ट्रैक्टर के जरिये अलग-अलग जगह जमा कर दिया जा रहा है। बालू की यह चोरी ऐसे समय में हो रही है जब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने खनिज के अवैध धंधे को बंद करने के लिए सभी जिलों के उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक को स्पष्ट आदेश दे रखे हैं। चाईबासा-कुजू सड़क मार्ग के किनारे रहने वाले लोगों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से बालू का अवैध कारोबार यहां काफी बढ़ गया है। दिन भर ट्रैक्टरों से बालू की ढुलाई हो रही है। दिन भर में 200 से ज्यादा बालू लदे ट्रैक्टर इस रास्ते से गुजरते हुए चाईबासा पहुंच रहे हैं। बालू के इस अवैध धंधे में विक्रम तिरिया, राकेश पति, रामदेव, किशोर, रुपेश आदि के शामिल होने की बात सूत्रों से पता चली है। चाईबासा में कुजू के अलावा बंदोडीह, आयता, कुर्सी सहित अन्य घाटों से बालू का अवैध उत्खनन हो रहा है।

चाईबासा तक लाने पर एक ट्रैक्टर बालू का रेट 3500 रुपये

कुजू नदी से बालू लादकर निकल रहे एक ट्रैक्टर चालक से पूछने पर उसने बताया कि ट्रैक्टर उसी का है मगर बालू का उठाव चाईबासा के एक व्यक्ति के लिए करते हैं। दूरी के हिसाब से प्रति ट्रैक्टर बालू का रेट निर्धारित हैं। चालक ने बताया कि चाईबासा में एक ट्रैक्टर बालू पहुंचाने का रेट 3500 रुपये हम लोगों ने तय किया है। दूरी के हिसाब से रेट कम या ज्यादा हो सकता है। बालू के लिए किसी तरह का चालान नहीं लेते हैं।

कुजू नदी के किनारे आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर बालू का अवैध भंडारण

कुजू नदी से बालू का उत्खनन कर आसपास आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर बालू का अवैध भंडारण कर के रखा गया है। इस बालू को रात में हाइवा में लादकर अन्यत्र स्थल पहुंचा दिया जाता है। अभी जिले में चुनाव चल रहा हे। इस वजह से पुलिस प्रशासन का इस तरफ कोई ध्यान नहीं है। इसी का फायदा बालू चोर उठा रहे हैं।

बालू घाटों की नहीं हुई है नीलामी

पश्चिमी सिंहभूम जिला में अभी एक भी बालू घाट की नीलामी नहीं हुई है। इसके बावजूद बालू का धड़ल्ले से खनन कर कारोबार किया जा रहा है। इससे सरकार को बड़े राजस्व का नुकसान हो रहा है। वहीं नदी की दशा और दिशा भी प्रभावित हो रही है। चाईबासा के अलावा, तांतनगर, मंझारी व जैंतगढ़ क्षेत्र में बालू का अवैध कारोबार अभी चल रहा है।

कुजू नदी से बालू के अवैध उठाव की जानकारी मिली है। पंचायत चुनाव खत्म होने के बाद सदर अनुमंडल पदाधिकारी के नेतृत्व में टीम का गठन कर संबंधित जगहों पर छापामारी की जायेगी। इस दौरान पकड़े जाने पर वाहन को जब्त करते हुए कड़ी कार्रवाई करेंगे।

दिलीप खलखो, अनुमंडल पुलिस अधीक्षक, चाईबासा।

Edited By: Madhukar Kumar