जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। टाटा-ब्लूस्कोप में अभी तक कर्मचारियों का सालाना बोनस नहीं हुआ है। बोनस पर प्रबंधन-यूनियन के बीच जिच बना हुआ है। प्रबंधन पूर्व की तरह कुछ राशि बोनस देने के पक्ष में है, जिसे यूनियन ने सिरे से खारिज कर दिया है। ऐसे में प्रबंधन अब कर्मचारियों के बैंक खाते में सीधे राशि भेजने पर उतारू है। प्रबंधन-यूनियन की निर्णायक वार्ता होने वाली थी, जो नहीं हुई। पूरे दिन यूनियन इस इंतजार में थी कि बोनस वार्ता को लेकर प्रबंधन का बुलावा आएगा, जो नहीं आया।

कर्मचारी भी बेसब्री से बोनस का इंतजार करते रहे, लेकिन सोमवार को भी कुछ नहीं हुआ है। अब मंगलवार को बात नहीं बनी तो प्रबंधन सीधे बोनस अधिनियम के तहत 8.33 फीसद राशि बैंक में भेज देगा।

अधिकांश कंपनियों में हो गया है बोनस

शहर की अधिकांश कंपनियों में बोनस हो गया है वहीं टाटा ब्लूस्कोप कर्मचारियों का बोनस फंस गया है। प्रबंधन बीते साल की तर्ज पर कुछ राशि बढ़ाकर देने को तैयार है। जबकि यूनियन शहर की अन्य कंपनियों की तरह यहां भी फार्मूला बनाकर बोनस देने की मांग कर रही है। बोनस को लेकर प्रबंधन-यूनियन के बीच दर्जनों बार वार्ता हुई है लेकिन सहमति नहीं बनी। प्रबंधन अपने रूख पर अड़ा हुआ है, यूनियन के लाख आग्रह के बावजूद वह पीछे नहीं हट रहा है। नेताओं का कहना है कि अगर प्रबंधन उनकी बातों को नहीं सुनता है तो वे भी बात नहीं करेंगे। उधर कर्मचारियों में भी बोनस को लेकर असंतोष बना हुआ है। उनका कहना है कि कंपनी को मुनाफा हुआ है बावजूद वह कर्मचारी हक में समझौता करने को तैयार नहीं है।

Edited By: Rakesh Ranjan