घाटशिला, जासं। घाटशिला प्रखंड के गालूडीह क्षेत्र के बड़बिल गांव में संचालित बिरसा फन सिटी वाटर पार्क में 14 जून को जमशेदपूर बागूनहातु के युवक जोनी कैवर्त की दुर्घटना में हुई मौत के बाद शुक्रवार को मुआवजा की शेष राशि 10 लाख रुपये का चेक मृतक के आश्रित को दिया गया। वाटर पार्क के संचालक लोक पति सिंह के द्वारा मृतक जोनी के दोनों बच्चें तीन वर्षीय बेटी नीतू व 7 माह के बेटे दीपक कैवर्त के नाम पांच-पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया।

पीड़ित परिवार को दिया गया चेक

संचालक लोक पति सिंह के द्वारा दिए गए चेक को विधायक रामदास सोरेन, पार्षद करण सिंह, सुभाष सिंह, मुखिया नेहा सिंह, झामुमो प्रखंड अध्यक्ष वकील हेम्ब्रम, भाजपा नेता हराधन सिंह के हांथों संयुक्त रुप से मृतक जोनी कैवर्त की पत्नी रैवती कैवर्त को प्रदान किया गया। इस दरमियान मृतक के पिता शुरु कैवर्त, भाई अशोक कैवर्त, बुधू कैवर्त, बहन जोसु कैवर्त आदि उपस्थित थे। चेक दोनों बच्चों के नाम से तैयार किया गया। बच्चे 18 वर्ष होने के बाद ही चेक की राशि निकाशी हो पाएगी।

14 जून को नहाने के दौरान हुआ था हादसा

विदित हो कि बीते 14 जून को जमशेदपुर बागुनहातू के युवक जोनी कैवर्त अपने कुछ दोस्तों के साथ वाटर पार्क में आनंद लेने आया था। नहाने के दौरान स्लाइड बोर्ट से जोनी की दुर्घटना होने से मौत हो गई थी। इसके बाद संचालक ने तत्काल श्राद्धकर्म के लिए नगद एक लाख रूपए परिवार को भुगतना किया था। शेष राशि 10 लाख का भुगतान शुक्रवार को चेक के माध्यम से किया जाएगा। मौके पर भाजपा नेता अमरदीप शर्मा, झामुमो नेता जगदीश भकत, काजल डॉन, अशोक महतो, दुर्गा मुर्मू, रतन महतो, अजय महतो, अबनी महतो, मंगल सिंह उपस्थित थे। विधायक रामदास सोरेन ने कहा पार्क में पूर्व में हुए दुर्घटना काफी दुखद है। राशि देकर परिवार के नुकसान की भरपाई नहीं किया जा सकता। क्षेत्र के विकास को देखते हुए पार्क शुरु होना चाहिए। पूरी नियम व प्रशासनिक गाइडलाइंस के साथ जल्द पार्क शुरु हो। ताकि बेरोजगार स्थानीय युवाओं को भी रोजगार मिल सके।

प्रशासन वाटर पार्क के मामले को रफा दफा करने में लगा

बलमुचू पूर्व राज्यसभा सदस्य डा. प्रदीप कुमार बलमुचू ने पिछले दिनों गालूडीह के बिरसा फन सिटी वाटर पार्क में दुर्घटना में हुए युवक की मौत के मामले में कहा कि वाटर पार्क मामले को रफा दफा नहीं करना चाहिए। इसमें प्रशासन भी मिला है। एन प्रकरेण कोशिश कर सब लगे है कि इसे दोबारा चालू किया जाए। लेकिन प्रशासन ऐसा कुछ नहीं कर रहा हैं कि ऐसी घटना की पूर्णावर्ती न हो। इस मामले पर जांच होनी चाहिए घटना। वाटर पार्क में जो पानी यूज किया जा रहा है। उसका फिल्टर नहीं होता है। इससे बीमारी बढ़ेगा। फिल्टर का अलग सिस्टम हैं। प्रशासन को ऐसे घटना की पूरी जांच करनी चाहिए।

Edited By: Madhukar Kumar