जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : टाटा स्टील प्लाट में शनिवार की सुबह आदिवासी महिला ठेका कर्मी पर हमला कर उसे घायल करने के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। घटना को कंपनी के ही ठेका कर्मी बादल हांसदा ने इसलिए अंजाम दिया क्योंकि युवती अब उससे मिलने से इन्कार कर रही थी। कथित तौर पर बादल हांसदा के साथ उसका चार साल पहले प्रेम संबंध था लेकिन, पिछले एक साल से युवती ने दूरी बना ली थी। घटना वाले दिन भी वो युवती को मिलने के लिए राजी कर रहा था, लेकिन वो नहीं मानीं तो कंपनी परिसर में डी ब्लास्ट फर्नेस के करीब उसने हमला कर युवती को घायल कर दिया और आराम से कंपनी के साकची वाले गेट से निकलकर भागा। आश्चर्य जनक बात यह कि सुरक्षा के बावजूद कंपनी में मारपीट कर बादल आराम से भाग निकला। किसी सुरक्षाकर्मी को भनक तक नहीं लगी।

बादल हांसदा ने पुलिस को घटना की पूरी जानकारी दी। वो रॉड भी बरामद कर लिया गया, जिससे उसने हमला किया था। बिष्टुपुर थाना प्रभारी राजेश प्रकाश सिन्हा ने बादल हांसदा का महात्मा गांधी मेमोरियल अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद जेल भेज दिया है। युवती के होश में आने के बाद पुलिस उसका बयान दर्ज करेगी।

------

बादल शादीशुदा, इसलिए युवती ने कर लिया था किनारा

बादल ने पुलिस को बताया कि युवती के साथ उसका प्रेम संबंध चार साल पहले से चल रहा था। तब उसने युवती को यही बताया था कि वो कुंवारा है। उसकी शादी नहीं हुई है। बताते हैं कि तकरीबन साल भर पहले युवती को पता चल गया कि बादल शादीशुदा है और उसके तीन बच्चे हैं। इसके बाद युवती ने उस से किनारा कर लिया।

-----------------------

जनवरी से पूरी तरह बंद थी बातचीत

इस साल जनवरी से युवती ने बादल से बात करना पूरी तरह से बंद कर दिया था। इससे बादल बौखलाया हुआ था। कई बार उसने युवती से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन वह उससे बात नहीं कर रही थी।

--

शनिवार को गेट पर इंतजार कर रह था बादल

घटना वाले दिन युवती सुबह जब ड्यूटी पर आई तो बादल हासदा पहले से जुगसलाई गेट पर उसका इंतजार कर रहा था। उसने उसे आवाज देकर बात करने को कहा। लेकिन युवती ने बात करने से इन्कार कर दिया और उसे दुत्कार दिया।

----------------------

पैर पर तीन बार रॉड मारा, गिरी तो सिर पर किया हमला

युवती का पीछा कर रहे बादल ने कंपनी में सुनसान जगह पर लोहे के एक रॉड से युवती के पैर पर तीन बार मारा। इससे वह गिर कर तड़पने लगी। इसके बाद बादल ने उसके सर पर वार किया। इसके बाद वह भाग गया।

---------------------

कांड्रा में अपने मामा के यहां छिपा था

घटना को अंजाम देने के बाद वह मतलाडीह में रहा। मतलाडीह से वह चौका अपनी बहन के यहा गया। यहा से वह काड्रा अपने चचेरे मामा जामोन हासदा के यहा गया और वहीं छिपा हुआ था। लेकिन, सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट के नेतृत्व में बनी पुलिस टीम ने उसे सोमवार की शाम दबिश डालकर दबोच लिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस