जमशेदपुर, जासं। Ayurvedic Remedies आजकल ज्यादातर घरों में पाश्चात्य या रेडीमेड भोजन की जबरदस्त घुसपैठ हो गई है। यह ना केवल लोगों को बीमार बना रहा है, बल्कि सोचने-समझने की शक्ति भी क्षीण कर रही है। जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे बता रही हैं, जिससे व्यक्ति 100 वर्ष तक जवान बना रह सकता है। वह कहती हैं कि आज हम आपको ऐसे भोजन के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे संजीवनी भी कहा जाए तो गलत नहीं होगा।

यह बल, बुद्धि और वीर्य बढ़ाने में रामबाण है। इसके सेवन से आप सर्दी-जुकाम से लेकर कैंसर तक आप हर बीमारी से बच सकते हैं। ये भोजन स्वस्थ व्यक्ति को निरोगी बनाये रखता है, कमजोरों को शक्तिशाली, बच्चों को चैंपियन, बूढ़ों को जवान और जवानों को 100 वर्ष तक जवान बनाकर रखता है।

चार चम्मच गेहूं के दाने और एक चम्मच मेथी दाना से बना यह संजीवनी भोजन

  • चार चम्मच गेहूं के दाने और एक चम्मच मेथी दाना लेकर दोनों को चार-पांच बार अच्छी तरह साफ़ जल से धो लीजिए।
  •  इसके बाद आधा गिलास पानी में डालकर 24 घंटे रखें।
  • फिर इनको पानी से निकालकर एक मोटे गीले कपड़े में बांधकर अंकुरित होने के लिए 24 घंटे तक हवा में लटका दीजिए।
  • गर्मियों में बीच-बीच में पानी के छींटे मारते रहें।
  • जिस पानी में गेहूं के दाने और मेथी दानों को भिगोया था, उस पानी में आधा नींबू निचोड़ कर दो ग्राम सोंठ का चूर्ण डाल दीजिए।
  • इसमें दो चम्मच शहद घोलकर सुबह खाली पेट लें।
  • यह पेय बहुत शक्तिवर्धक, पाचक, और सफुर्तिदायक होता है। इसको संजीवनी पेय कहते हैं।
  • अभी जो गेंहू के दाने और मेथी के दाने अंकुरण के लिए लटकाए थे,
  • जब उनमें अंकुर फूट जाए (औसतन गर्मियों में 24 या 48 घंटों में अंकुरित हो जाते हैं)
  • इनको सुबह नाश्ते में पीसी हुई काली मिर्च और सेंधा नमक बुरककर खूब चबा-चबाकर खाएं।
  • इस नाश्ते को संजीवनी नाश्ता कहते हैं।
  • जो व्यक्ति अंकुरित अन्न को चबा ना सके वो इसको ग्राइंड कर के इसका लाभ लें। अन्यथा उनको ऊपर पानी तक ही सीमित रहना पड़ेगा।

    इस संजीवनी पेय और नाश्ते के फायदे

  •   जिन लोगों में खून की कमी है
  • ब्लड शुगर है (डायबिटीज)
  • कफ की अधिक समस्या है
  • अस्थमा का प्रकोप है
  • शरीर कमज़ोर है
  • मोटापा अधिक है
  • कमजोरी रहती है
  • पूरा दिन आलस रहता है
  • खून में धक्के जमे हुए हैं
  • कमज़ोर दृष्टि है
  • नपुंसकता है
  • शीघ्रपतन की समस्या है
  • कैंसर
  • हृदय रोग
  • लीवर के रोग
  • किडनी के रोग के लिए
  • स्त्रियों के श्वेत प्रदर और रक्त प्रदर में
  • बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए
  • खिलाडियों को ऊर्जावान बनाए रखने के लिए
  • यौवन को बरक़रार रखने वाला
  • चेहरे को कश्मीरी सेब जैसा खिला रखने वाला
  • 100 वर्ष तक भी निरोगी रखने वाला चमत्कारिक भोजन है!
  • इसको हर आयु का व्यक्ति खा कर रक्त में जवानी का अहसास कर सकता है। कुल मिला कर इसको सर्व रोगों के लिए एक दवा कहा जा सकता है।

अंकुरण के लिए विशेष

  अंकुरण के लिए बढ़िया से बढ़िया अनाज का उपयोग करना चाहिए। गर्मियों में जहां अंकुरण एक दो दिन में हो जाता है, वहीं सर्दियों में यह तीन से चार दिन ले सकता है। इसलिए धैर्य रखें और हर रोज आप ये नाश्ता कर सकते हैं। इसलिए जब तक अंकुरण फूटे नहीं, तब तक हर रोज नया गेंहू और मेथी दाना अंकुरित करते रहें। इससे तीन-चार दिनों के बाद आपको निरंतर अंकुरित नाश्ता मिलना शुरू हो जाएगा।

 जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय।

Edited By: Rakesh Ranjan