जमशेदपुर। दक्षिण कोरिया की टीम को यूं ही तीरंदाजी का पावरहाउस नहीं कहा जाता। कोरियाई टीम ने टोक्यो ओलंपिक में अभी तक तीन स्वर्ण अपने नाम किया है। कोरिया के प्रदर्शन के बाद हुंडई मोटर ग्रुप लाइमलाइट में है, जो कोरियाई तीरंदाजी का मुख्य प्रायोजक भी है। यहां बताते चले कि कंपनी के चेयरमैन चुंग यूई-सन कोरियाई तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष भी हैं। चूंकि कोरियाई राष्ट्रीय तीरंदाजी टीम ने 2020 टोक्यो ओलंपिक में तीनों स्वर्ण पदक हासिल किए हैं, इसलिए ध्यान हुंडई मोटर समूह पर भी केंद्रित है, जिसने कोरियाई तीरंदाजी का समर्थन किया है।

हुंडई मोटर्स ने कोरियाई तीरंदाजी संघ का दिया साथ

टोक्यो ओलंपिक शुरू होने से काफी पहले अध्यक्ष चुंग ने फैसला किया कि कोरियाई तीरंदाजी दुनिया में सबसे अच्छी है, लेकिन हुंडई मोटर समूह की भविष्य की कारों की रिसर्च की तकनीक से एथलीटों के प्रदर्श में सुधार हो सकता है। इसके बाद अभ्यास के दौरान आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, विजन रिकॉग्निशन व थ्री डी प्रिंटिग का प्रयोग किया जाने कहा। इससे उपकरण की गुणवत्ता में न सिर्फ सुधार दिखा, बल्कि एथलीटों के मानसिक रूप से मजबूत बना दिया।

हुंडई मोटर ग्रुप ने तीरंदाजों की राय सुनी और उन क्षेत्रों की सावधानीपूर्वक समीक्षा की जहां रिसर्च टीम मदद कर सकती थी। हुंडई मोटर समूह ने पांच क्षेत्रों तकनीक का प्रयोग करना शुरू किया। इसमें हाई प्रीसिजन शूटिंग मशीन, ऑटोमेटिक स्कोर रिकॉर्डर, विजन बेस्ड हार्ट रेट मेजरमेंट, डीप लर्निंग विजन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कोच तथा कस्टमाइज्ड ग्रिप पर काम करना शुरू किया।

अत्याधुनिक शूटिंग मशीन ने खिलाड़ियों के प्रदर्शन को बेहतर बनाया

हाई प्रीसिजन शूटिंग मशीन में उच्च गुणवत्ता वाले तीरों की जरूरत होती है। तीरंदाजी में, तीर धनुष के खिलाड़ी के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए आवश्यक उपकरण हैं। खिलाड़ी आमतौर पर उच्च गुणवत्ता वाले तीरों का चयन करने के लिए उच्च तकनीक के कई तीरों से अभ्यास करते हैं, ताकि बेहतर तीर उनके कमान में हो।

परीक्षण प्रक्रिया को स्वचालित करने के लिए, हुंडई मोटर समूह और तीरंदाजी संघ ने 'शूटिंग मशीन' विकसित की। हुंडई मोटर ग्रुप ने 2016 रियो ओलंपिक के लिए निर्मित पिछले उपकरणों की तुलना में शूटिंग मशीन में काफी सुधार किया।

एथलीट 70 मीटर की दूरी पर शूटिंग मशीन से तीर चलाकर यह जांच सकते हैं कि नया तीर खराब है या नहीं। यदि तीर लक्ष्य पर हिट करता है और एक निश्चित सीमा के भीतर एक शॉट ग्रुप बनाता है, तो वह गुजर जाएगा। इसका परीक्षण वैसी ही परिस्थितियों में किया जा सकता है जैसे आम तौर पर होता है। जैसे ताकत, दिशा और गति। इसलिए तीरों को एथलीट की स्थिति, मौसम या तापमान में उतार चढ़ाव के बिना भी वर्गीकृत किया जा सकता है।

असली अभ्यास जैसा होता है स्वचालित स्कोर रिकॉर्डर से प्रैक्टिस

राष्ट्रीय तीरंदाजी टीम के कौशल में सुधार के लिए हुंडई मोटर ग्रुप ने एक और तकनीक का ईजाद किया, जो स्वचालित स्कोर रिकॉर्डर है। यह एक ऐसी तकनीक है जो सटीक सेंसर पर आधारित 'इलेक्ट्रॉनिक टारगेट' के स्कोर को रिकॉर्ड कर सकता है, जो भविष्य में काम आता है। इस तकनीक से खिलाड़ी को यह पता चल जाता है, आखिर कहां खामी है।

इलेक्ट्रॉनिक टारगेट वायरलेस की सहायसा के मॉनिटर पर स्कोर को दर्शाता है। खिलाड़ी या कोचिंग स्टाफ सीधे लक्ष्य पर जाए बिना या दूरबीन से देखे बिना कुशलता से स्कोर की जांच कर सकते हैं। न केवल स्कोर, बल्कि तीर मारने की स्थिति भी मॉनीटर पर प्रदर्शित होती है।

 ट्रेनिंग डेटा सेंटर किया गया विकसित

बड़े डेटा के रूप में उपयोग किए जाने के लिए स्कोर और शूटिंग के डेटा ट्रेनिंग डाटा सेंटर में स्टोर किया जाता है। वे डेटा खिलाड़ी के शूटिंग वीडियो और दिल की धड़कन की जानकारी से जुड़े होते हैं, जो रीयल गेम मोड की तरह होता है। इससे प्रदर्शन की बारीकी से विश्लेषण किया जाता है।

इस सिस्टम के माध्यम से खिलाड़ी अभ्यास के दौरान वास्तविक मैच का अनुभव करते हैं। शूटिंग के तुरंत बाद स्कोर की जांच की जा सकती है। अभ्यास के दौरान खिलाड़ी वास्तविक गेम की तरह स्कोर के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं।

मेंटल प्रेशर की जांच के लिए विजन बेस्ड हार्ट रेट मशीन

हुंडई मोटर ग्रुप ने मनोवैज्ञानिक कारकों को नियंत्रित करके प्रदर्शन में सुधार करने के लिए राष्ट्रीय तीरंदाजी टीम को 'विजन-आधारित हृदय गति माप' उपकरण दिया।

खिलाड़ी के तनाव की जांच के लिए हृदय गति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हुंडई मोटर के विजन बेस्ड हृदय गति मापने वाले उपकरण खिलाड़ी के चेहरे में रंग परिवर्तन की जांच करके नाड़ी तरंगों (पल्स वेव) का पता लगाते हैं, और हृदय गति को मापते हैं। यह देखते हुए कि खेल या प्रशिक्षण के दौरान स्पर्श करके बायोमेट्रिक संकेतों को मापना मुश्किल है, इसने एडवांस विजन कंप्यूटिंग तकनीक का उपयोग किया।

Hyundai Motor Group ने एक विशेष फेशियल रिकग्निशन एल्गोरिथम विकसित किया है जो मैच के दौरान खिलाड़ी के चेहरे पर गहरी नजर रखता है, जब वह धनुष पर तीर चढ़ाता है। यह खिलाड़ी के हार्ट रेट के साथ-साथ आसपास के शोर को भी नियंत्रित करता है। प्रशिक्षण में हस्तक्षेप को कम करने के लिए, प्रसारण के लिए हाई-ज़ूम कैमरे भी लागू किए गए थे। राष्ट्रीय तीरंदाजी टीम के कोचिंग स्टाफ ने प्रशिक्षण के दौरान रिकॉर्ड किए गए हृदय गति डेटा और स्कोर को जोड़कर खिलाड़ियों की मनोवैज्ञानिक चिंता को खत्म करने के लिए सक्रिय रूप से इसका इस्तेमाल किया।

खिलाड़ियों के लिए बनाया मेडिटेशन ऐप

इसके अलावा, हुंडई मोटर ग्रुप ने 'तीरंदाजी टीम के लिए मेडिटेशन ऐप' भी विकसित किया। कोरिया स्पोर्ट्स पॉलिसी साइंस इंस्टीट्यूट के मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञों की सलाह लेकर यह ऐप को विकसित किया गया। मेडिटेशन कंटेंट को खिलाड़ियों के लिए समय और स्थान की परवाह किए बिना एक आरामदायक मनोवैज्ञानिक स्थिति बनाए रखने के अनुरूप बनाया गया।

ट्रेनिंग वीडियो का विश्लेषण के लिए बनाया 'डीप लर्निंग विजन एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) कोच'

राष्ट्रीय तीरंदाजी टीम को प्रदान किया गया 'डीप लर्निंग विजन एआई कोच' हुंडई मोटर ग्रुप की एआई विशेष टीम, एआईआरएस द्वारा विकसित तकनीक है, जो विश्लेषण की सुविधा के लिए एथलीटों के प्रशिक्षण वीडियो को स्वचालित रूप से एडिट करती है।

पहले, खिलाड़ियों के वीडियो का विश्लेषण दो वीडियो को देखकर किया जाता था। प्रतियोगिता के दौरान रिकॉर्ड किए गए तीर खींचने और शूटिंग करने वाले खिलाड़ियों के वीडियो और लक्ष्य को मारने वाले तीरों के वीडियो की तुलना करके एक-एक करके विश्लेषणात्मक डेटा बनाया जाता था।

हालांकि, 'एआई कोच' खिलाड़ी के सेट अप और रिलीज मोमेंट और पॉइंट ऑफ एरो हिटिंग टारगेट को ठीक उसी समय कैप्चर करके एक ही शॉर्ट वीडियो में दो वीडियो को स्वचालित रूप से संपादित करता है। इसने तैयारी जैसे अनावश्यक वीडियो को छोड़कर इसके उपयोग को अधिकतम किया है।

ग्रिप डिजाइन के लिए थ्री डी 'कस्टमाइज्ड ग्रिप' स्कैनर

हुंडई मोटर ग्रुप और तीरंदाजी एसोसिएशन ने फैसला किया कि अगर टोक्यो ओलंपिक जैसे दीर्घकालिक मैच के दौरान अगर ग्रिप में गड़बड़ी होती है तो खिलाड़ियों को मुश्किल होगी। ऐसे में हुंडई मोटर ने 3डी स्कैनर और 3डी प्रिंटर तकनीक का उपयोग करके एथलीटों के हाथों में फिट होने वाली कस्टमाइज्ड ग्रिप प्रदान की। खिलाड़ियों ने जिन ग्रिप्स का पहले से उपयोग किया था और अपने हाथों को फिट किया था, उन्हें 3D स्कैनर से स्कैन किया गया था, और यहां तक ​​​​कि छोटे खरोंच को भी 3D प्रिंटर के साथ पूरी तरह से पुन: प्रस्तुत किया गया था।

हुंडई मोटर ग्रुप ने पिछले रियो ओलंपिक के बाद से कस्टमाइज्ड ग्रिप का उत्पादन कर रही है। टोक्यो ओलंपिक के लिए, इसने एल्यूमाइड और PA12 जैसी नई सामग्रियों का उपयोग करके ग्रिप सामग्री में विविधता लाई है।

Edited By: Jitendra Singh