जमशेदपुर, जासं। देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादन कंपनियों में से एक टाटा पावर ने अपने चौथी तिमाही के वित्तीय आंकड़े घोषित किए हैं। कंपनी प्रबंधन की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार कंपनी ने बीते वित्तीय वर्ष के 366 करोड़ रुपये की तुलना में 440 करोड़ रुपये का मुनाफा अर्जित किया है। यह पिछले तिमाही की तुलना में लगभग 20 प्रतिशत अधिक है। ऐसे में कंपनी प्रबंधन ने प्रति शेयर 1.55 रुपये लाभांश देने की सिफारिश बोर्ड से की है।

कंपनी प्रबंधन ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि चौथे तिमाही में अंतराष्ट्रीय कोयले की कीमतों के कारण शुद्ध मुनाफे में थोड़ा दबाव था। हालांकि वित्त लागत में बचत और सौर परियोजना के बेहतर प्रदर्शन की बदौलत बीते तिमाही के 10,255 करोड़ रुपये की तुलना में 49 प्रतिशत बढ़ोतरी के साथ कंपनी का व्यापार बढ़कर 16,881 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी ने ओडिशा डिस्कॉम में 28,948 करोड़ रुपये की तुलना में सोलर प्रोजेक्ट की मदद से 33,079 करोड़ रुपये का व्यापार किया जो पिछले वर्ष की तुलना में 14 प्रतिशत अधिक है।

ओडिशा में भी विस्तार

कंपनी प्रबंधन के अनुसार 20 जनवरी 2021 को कंपनी ने ओडिशा के दो डिस्कॉस के संचालन और वितरण का काम संभाला। ओडिशा के विद्युत नियामक आयोग से लेटर ऑफ इंटेट प्राप्त हुआ जिसके बाद ओडिशा में कंपनी को पांच सर्किकल में बिजली वितरण और आपूर्ति की जिम्मेदारी मिली। इसमें बालासोर, भद्रक, बारीपदा, जाजपुर और क्योंझर जैसे क्षेत्र है। इसके अलावा एक निजी कंपनी के रूप में टाटा पावर मुंबई, नई दिल्ली, अजमेर, मध्य, दक्षिण और पश्चिम ओडिशा के लगभग 12 मिलियन उपभोक्ताओं को अपनी सेवा दे रहा है। जो दूसरी कंपनियों की तुलना में लगभग तीन गुणा ज्यादा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप