जमशेदपुर, जासं। वरिष्ठ भाजपा नेता डीडी त्रिपाठी ने जमशेदपुर शहर में टेम्पो चालकों के लिए ड्रेस कोड को सख्ती से लागू करने पर विरोध जताया है। कहा है कि शहर में अधिकतर ऐसे सभ्रांत परिवार हैं जो बड़ी कंपनियों में अस्थाई रूप से कार्य करते हैं। जिसमें पढ़े- लिखें युवाओं की एक बहुत बड़ी हिस्सेदारी हैं। जिनका समय-समय पर लंबी अवधि हेतु कार्य से या रोटेशन पॉलिसी की तहत कंपनी में काम से बैठा दिया जाता है।

टाटा मोटर्स में कार्य करने वाले बाई सिक्स ग्रेड के कार्मिकों की संख्या अधिक हैं जो वैसे समय में समाज में अपनी प्रतिष्ठा को ढक कर रात्रि में या अन्य समय पर टेम्पो चलकर परिवार का भरण पोषण कर पाते हैं। ड्रेस कोड लागू होने से उनकी प्रतिष्ठा इस रोजगार में अब बाधक बन कर खड़ी हो जाएगी । ऐसे में जरूरी हैं कि शहर की प्रकृति को देखते हुए इस तरह के कानूनों को सख्ती से लागू करने की बजाय मानवता को प्रश्रय दिया जाय । किसी भी कानून की आवश्यकता समाज को सुरक्षा और संरक्षा देने हेतु स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप होते हैं और इसी को ध्यान में रखकर कानून और नियम बनाये जाते रहें हैं ।आज भी देश में क्षेत्रीय जरूरतों के अनुसार के कानून बने हैं। और देश में ऐसे कई कानून हैं जो देश के अंदर ही एक क्षेत्र के नियम दूसरे प्रदेश में लागू नहीं होते हैं ।

हर किसी पर ये नियम न लागू करें

डीडी त्रिपाठी ने वरीय पुलिस आरक्षी अधीक्षक से मांग कि है कि इस विषय पर संवेदनशीलता का परिचय देते हुए अनावश्यक रूप से हर किसी पर ये नियम न लागू करें और वैसे अस्थाई रूप से अपने जीविकोपार्जन हेतु टेम्पो चलाने वाले शिक्षित बेरोजगारों को दलित करने की जगह उन्हें अन्य तरह से जोड़कर ड्रेस कोड की बाध्यता से मुक्त रखें।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021