जमशेदपुर, जासं।  दक्षिण - पूर्व रेलवे के डिवीजन कोविड 19 के कारण हुए लॉकडाउन के बावजूद लगातार नए-नए कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। दक्षिण- पूर्व रेलवे के अंतर्गत खड़गपुर, चक्रधरपुर, रांची व आद्रा डिविजन आते हैं।

कोविड 19 के कारण पूरे देश में लॉकडाउन था, तब स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए आद्रा डिवीजन ने खाद्यान्न व आवश्यक वस्तुओं की माल ढुलाई को सुनिश्चित करते हुए देश के विभिन्न डिवीजन में माल पहुंचाया और कभी भी खाद्य पदार्थों की कमी नहीं होने दी।

लॉकडाउन में भी दौड़ती रही मालगाडी

रेलवे प्रबंधन के अनुसार दक्षिण - पूर्व रेलवे ने जब कोरोना वायरस के कारण पैसेंजर ट्रेनों का संचालन नहीं कर पा रही थी तो मालगाड़ियों के माध्यम से निर्बाध रूप से देश के हर जोन में अपने आवागमन का पूरा नेटवर्क तैयार किया। एक दिसंबर से 31 दिसंबर 2020 के दौरान दक्षिण- पूर्व रेलवे के आद्रा डिवीजन ने 26 रेक से कुल 54,499 टन खाद्यान्न व नमक की ढुलाई की। इसमें 15 रेक से 37,258 टन गेहूं, 10 रेक से 14,574 टन चावल और एक रेक से 1,667 टन नमक की सप्लाई की। दक्षिण पूर्व रेलवे के इस डिवीजन ने पुरुलिया, बाकुड़ा, बोकारो स्टील सिटी, चक्रधरपुर मंडल में चांडिल डिवीजन में एक माह में माल की ढुलाई की। 

कर्मचारियों ने दिया बखूबी साथ

दक्षिण- पूर्व रेल प्रबंधन का कहना है कि इस लक्ष्य को प्राप्त करने में दक्षिण- पूर्व रेल के माल लोंंडिग व अन लोडिंग में विभिन्न स्टेशनों में कार्यरत कर्मचारियों ने बखूबी साथ दिया। स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हमने खाद्यान्न व अन्य वस्तुओं की कमी नहीं होने दी और निर्धारित समय पर सभी सामान की डिलीवरी दी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप