जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : मानगो के उलीडीह थाना क्षेत्र के खड़िया बस्ती में अपराधी सैंकी यादव की हत्या मामले में फरार आरोपित रोहन सिंह उर्फ सौरभ सिंह ने शनिवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। वह घटना के दिन से फरार था। पुलिस उसकी गिरफ्तार के लिए लगातार छापेमारी कर रही थी। जेल में बंद हत्याकांड के मुख्य आरोपित भाजपा नेता राजेश सिंह का भगिना है।

आत्मसमर्पण के बाद पुलिस अब रोहन को रिमांड पर लेने के लिए न्यायालय में आवेदन देगी। कई मामलों में फरार सैंकी यादव की भाजपा नेता ने अपने साथियों के साथ मिलकर विगत एक अक्टूबर को हत्या कर दी थी। दोनों के बीच में पूर्व से ही दुश्मनी थी जिसको लेकर दोनों एक-दूसरे से बदला लेने की फिराक में रहते थे।

घटना के दिन राजेश सिंह, रोहन सिंह समेत अन्य सफारी और स्कूटी से खड़िया बस्ती से जा रहा था। खड़िया बस्ती पुल के पास सैंकी यादव और सोनू पगला स्कूटी से जा रहे थे। दोनों आमने-सामने हो गए। राजेश ने अपनी कार से 250 मीटर तक उसका पीछा किया और अपनी कार से उसे धक्का मार सड़क पर गिरा दिया। राजेश व अन्य ने पहले गोली मार दी। ईंट-पत्थर से सिर कुचल दिया। फिर कार से सैंकी को कुचल दिया था। बचने के लिए उसने अपने कार में खुद गोली चलाईं और एक कहानी गढ़ दी थी। प्राथमिकी दर्ज कराने एमजीएम थाना पहुंच गया था। फायरिग और हत्या की घटना की कड़ी पुलिस ने जोड़ी। इस मामले में पुलिस ने राजेश सिंह, शेखर दीक्षित, शुभम सिंह और संतोष उर्फ मिथिलेश तिवारी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। दो पिस्तौल बरामद किए थे। ओलीडीह थाना में राजेश सिंह के अलावा रोहन सिंह, शुभम सिंह, नीरज सिंह, संतोष तिवारी उर्फ मिथिलेश तिवारी, आयुष सिंह, रोहित, मनीष सिंह, शेखर दीक्षित और उत्तम लोहार लोहार पर सैंकी यादव के भाई की शिकायत पर गोली मारकर और वाहन से कुचलकर हत्या किए जाने मामला दर्ज कराया था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस