जमशेदपुर, जासं। Doctors Day 2020 फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेटिक एंड गाइनोकोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के आह्वान पर पूर्वी सिंहभूम जिले के जमशेदपुर शहर की 120 महिला चिकित्सकों ने अंग दान करने का संकल्प लिया है। इस अभियान के लिए बुधवार को डॉक्टर्स डे पर इसका शुभारंभ होगा।

जमशेदपुर शाखा की अध्यक्ष डॉ. वनिता सहाय ने बताया कि अब तक हमारा देश अंग दान को लेकर पिछड़ा हुआ है। इसे देखते हुए पूरे देश में अंगदान की पहल शुरू की जा रही है। तय हुआ है कि पहले महिला चिकित्सक अंग दान करेंगी, उसके बाद दूसरे लोगों को इसके लिए प्रेरित भी करेंगी। अंग दान करने वालों में महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल, टाटा मुख्य अस्पताल (टीएमएच), टाटा मोटर्स अस्पताल सहित अन्य अस्पतालों की महिला डॉक्टर शामिल हैं।

लायंस क्‍लब का भी सहयोग

इस अभियान को आगे बढ़ाने में लायंस क्लब का भी सहयोग रहेगा। डॉ. वनिता सहाय ने बताया कि एक मृत व्यक्ति आठ लोगों की जान बचा सकता है। झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, बिहार व सिक्किम में प्रतिवर्ष लगभग 20 हजार लोग सड़क दुर्घटना के शिकार होते हैं। इनमें अधिकतर को ब्रेन डेड घोषित कर दिया जाता है। इसमें अगर 10 हजार भी अंग दान कर देते हैं तो करीब 80 हजार लोगों की जान बचायी जा सकती है। एक व्यक्ति मरने के बाद किडनी, हार्ट, आंख, प्रैंक्रियाज, लिवर सहित अन्य अंग दान कर सकता है।

अंग दान करने का शपथ लेने वालीं चिकित्सक

डॉ. वनिता सहाय, डॉ. मौसमी दास घोष, डॉ. वीणा सिंह, डॉ. इंदू चौहान, डॉ. वनिता सिंह, डॉ. ममता रथ दत्ता, डॉ. रागिनी सिंह, डॉ. रघुमणी, डॉ. उमंग त्रिपाठी, डॉ. टी. कौर, डॉ. शिप्रा सरकार, डॉ. रजनी बागी, डॉ. प्रीत मोहन, डॉ. आशा गुप्ता, डॉ. शुभ्रदा मलिल्क, डॉ. झरना बनर्जी, पूरवी घोष, डॉ. विनय सिंह, एम मेहता, रुद्रा प्रमाणिक।

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस