संस, हजारीबाग: मानसून शुरू होते ही शहर में जलजमाव का नजारा जगह-जगह दिखने लगा है। इसके कारण गली कूचों व मुख्य सड़कों की नालियों के कचरों से पट रही हैं। इससे जलजमाव की समस्या भी उत्पन्न हो रही है। कई इलाकों में आलम यह है कि लोगों का पैदल चलना तक मुश्किल हो गया है। वहीं शहर के कई मोहल्लों कुम्हार टोली, भुईयां टोली, शिवपुरी, ओकनी, गांधी मैदान दक्षिणी में बारिश का पानी भर जाने के कारण लोगों का आवागमन प्रभावित हुआ है। गलियों व मोहल्ले की सड़कें तालाब में तब्दील हो गई दिखती है। नगर निगम की उदासीनता को लेकर लोगों में जहां आक्रोश दिख रहा है। हालांकि बारिश के मौसम को देखते हुए नगर निगम सक्रिय हो गया है। जगह जगह अभियान के रूप में सफाई की जा रही है। मगर यह नाकाफी साबित हो रहा है। शहर का मुख्य नाला भी कचरे से पट गया है। ज्ञातव्य हो कि शहर के अन्नदा चौक से खीरगांव नाला तक का कार्य करीब दो दशक पूर्व जलमल निकासी योजना से शुरू किया गया था। मगर यह योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया था। इस मामले में निगरानी जांच के आलोक में तत्कालीन नगरपालिका के अभियंता को जेल की हवा खानी पड़ी थी। इसी पेंच में निर्माण कार्य अब तक अधूरा है।

निगम द्वारा कराई जा रही है नालियों की सफाई

बारिश के पानी से होने वाले जलजमाव की समस्या को दूर करने के लिए नगर निगम के द्वारा नालियों की सफाई काम कराया जा रहा है। लेकिन देर से व धीमी गति से काम होने के कारण अब तक कुछ ही जगहों पर नालियों की सफाई हो पाई है। अब बारिश का मौसम आ जाने के बाद शायद ही नालियों की सफाई संभव हो पाए। अब लोगों को एक बार फिर निगम प्रशासन की लापरवाही का नतीजा भुगतना पड़ेगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस