बरही : बरही स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय उच्च विद्यालय में अनियमितता जांच एवं वर्षों से कार्यरत शिक्षक शिक्षिकाओं को हटाने की मांग थम नहीं रही। मंगलवार को समाहरणालय में डीसी ने जनता दरबार लगाया। इसमें भी बरही कस्तूरबा बालिका उच्च विद्यालय में अध्ययनरत छात्राओं के कई अभिभावक पहुंच कर विद्यालय में अनियमितता की शिकायत रखते हुए लिखित आवेदन दिया है। वहीं अविलंब जांच करते हुए उचित करवाई का गुहार भी लगाई है। आवेदन में बताया गया है कि कस्तूरबा छात्राओं को उचित मात्रा में पोषाहार नहीं मिलता है एवं रोजमर्रा की सामग्री भी पूर्ण रूप से नहीं दी जाती है। विगत 5 वर्ष पूर्व नामांकन के बाद आज तक छात्राओं को स्वेटर एवं बेडशीट नहीं प्राप्त कराया गया है। छात्राओं से विद्यालय की साफ-सफाई के साथ साथ बर्तन एवं पोछा भी कराया जाता है। वहीं भोजन पकाने का कार्य भी कराया जाता है। विद्यालय के छात्राओं को सरकार द्वारा उपलब्ध छात्रवृत्ति को भी सही समय पर उचित छात्रवृत्ति नहीं प्राप्त होती है। वहीं छात्राओं के लिए स्वच्छ पेयजल उपलब्ध रहने के बावजूद उपयोग करने से रोका जाता है। छात्राओं को स्नान करने के लिए बोरिग का पानी उपयोग करने से मना किया जाता है। उक्त विद्यालय में कई शिक्षक शिक्षिकाएं वर्षों से कार्यरत हैं, जिसके कारण अपनी मनमानी करते हैं। फलत: छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है। इस बात से छात्राओं एवं उनके अभिभावक में असंतोष बढ़ती जा रही है। आवेदन में यह भी बताया गया कि इन सभी विषयों पर जांच के लिए पिछले 10 फरवरी को बरही एसडीओ को भी एक लिखित आवेदन दिया जा चुका है। उपायुक्त के समक्ष शिकायत रखने वालों में किरण देवी समेत गुंजा देवी, बासुदेव उरांव, विनोद राम, मुनिया देवी, राहुल कुमार, चरनी देवी, कलावती देवी, देवंती देवी, वीरेंद्र सिंह, जमुनी देवी, बजंती आदि शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस