हजारीबाग : सूचना भवन में रविवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वाधान में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला मोटर वाहन दुर्घटना दावा वादों को लेकर आयोजित किया गया था। उद्देश्य कम से कम समय में अधिक से अधिक लाभ पीड़ित को देना था। कार्यशाला की अध्यक्षता प्राधिकरण न्यायधीश अशोक कुमार ने की। वहीं संचालन डालसा सचिव संदीप निचित बाड़ा ने किया। कार्यशाला में संबंधित थाना के अलावा पुलिस पदाधिकारी के रुप में एसडीपीओ सदर कमल किशोर, स्वास्थ्य विभाग की ओर से सिविल सर्जन डा. के कुमार, जिला न्यायधीश प्रथम रमेश कुमार, द्वितीय यशवंत प्रकाश, तृतीय कौशल किशोर, चतुर्थ संजय कुमार सिंह, जिला जज छी अमित कुमार शेखर, सीजेएम ऋचा श्रीवास्तव, रीमा कुमार के अलावा बीमा कंपनी के प्रतिनिधि व बार के सदस्य शामिल थे। मोटर दुर्घटना से संबंधित वादों पर विस्तार से चर्चा करते हुए इसे त्वरित लाभ देने पर सहमति बनी। तय किया गया कि सभी संबंधित एजेंसी दुर्घटना संबंधित मामलों को प्राथमिकता देंगे। स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट को लेकर तेजी बरतने को कहा गया। परिवहन के नए कानून पर भी चर्चा :

कार्यशाला में नए परिवहन कानून पर भी चर्चा की गई। इसे सख्ती से लागू करने और लागू करने से पहले इससे संबंधित सभी उपाय करने को कहा गया। बताया गया कि नए कानून के तहत पांच गुणा अधिक दंड लगाया गया है। वहीं यातायात को प्रशिक्षित करने के साथ साथ उसे और अधिक सा‌र्म्थय बनाने की बात भी कार्यशाला में हुई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस