समस्या : कामडारा के कोंसा पंचायत के कोटगो गांव में दो वर्षो स हैंडपंप खराब संवाद सूत्र, कामडारा (गुमला) : कामडारा प्रखंड स्थित कोंसा पंचायत के कोटबो गांव की आबादी करीब 250 है। यह पूरी आबादी गांव से बाहर बने सरकारी कुएं से पानी पीने को पिछले दो वर्षों से मजबूर है। गांव में चापाकल व सोलरयुक्त जलमीनार तो बनाए गए थे लेकिन यह दो वर्ष पहले ही खराब हो चुके है। इसकी मरम्मत के लिए ग्रामीण सरकारी बाबूओं व जनप्रतिनिधियों के पास जाकर थक चुके हैं। लेकिन अब तक इनका ध्यान कोटबों गांव की ओर नहीं गया। बरसात के दिनों में कुएं का दूषित पानी का उपयोग पूरा गांव पेयजल के रुप में करता है, जिससे अक्सर गांव के लोग बीमार पडते हैं। गांव के किनारे जिला परिषद के प्रयास से एक सोलरयुक्त जलमीनार लगाया है परंतु वहां पर चापाकल की खुदाई नहीं होने के कारण जलमीनार से जुड़े समरसेबल को एक कुएं में डाल दिया गया है। जिसके माध्यम से जलमीनार पर पानी को एकत्रित किया जाता था लेकिन अब वह भी खराब हो चुका है। गांव कोटबों में लोगों को हो रही पानी की समस्या की जानकारी सभी जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को भी मालूम है। इसके बावजूद पानी की समस्या को दूर करने के लिे कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहा हैं। ग्रामीण जोसफीना तोपनों शीलवंती तोपनों , जुलीयानी तंपनों जुएल तोपनों, अल्कसियुस तोपनों, गाब्रिएल तोपनों, जॉर्ज तोपनों, अनूप लोहरा, किरण आईंद, मुकुट तोपनों सहित अन्य ग्रामीणों ने गांव में खराब पड़े चापाकल और सोलरयुक्त जलमीनार को जल्द दुरुस्त कराने की मांग रखी है।

Edited By: Jagran