गुमला: उपायुक्त गुमला के साप्ताहिक जनता दरबार में राजकीयकृत कन्या मध्य विद्यालय रोघाडीह के छात्र-छात्राओं ने विद्यालय में मध्याह्न भोजन में दाल नहीं रहने पर सब्जी चावल परोसने की शिकायत की है। उपायुक्त की व्यस्तता के कारण आयोजित जनता दरबार में अपर समाहर्ता आलोक शिकारी कच्छप ने लोगों की समस्याएं सुनी। जनता दरबार में अपर समाहर्ता को दिए आवेदन में रोघाडीह चैनपुर के छात्र-छात्रओं ने बताया कि मध्याह्न भोजन में जनवरी 2018 से अबतक अण्डा नसीब नहीं हुआ है। मध्याह्न भोजन में दाल, सब्जी भी कभी कभी नहीं दिया जाता है । केवल चावल परोस दिया जाता है। इसके अतिरिक्त विद्याíथयों ने शिक्षकों के द्वारा ठीक से पठन-पाठन नहीं कराने, अक्सर विद्यालय से अनुपस्थित रहने की शिकायत की। आगे बताया दोनों शिक्षकों का स्कूल आने जाने का भी समय नहीं रहता है। शिक्षक मनमुताबिक विद्यालय आते जाते है। छात्रों द्वारा बताया गया दोनों शिक्षक आज भी विद्यालय नहीं पहुंचे । छात्र-छात्राओं द्वारा अपर समाहर्ता को दिए आवेदन में मध्याह्न भोजन मीनू के अनुसार सप्ताह में तीन दिन अण्डा, छात्रवृति, साईकिल, पोषाक सहित विद्यालय भवन को दुरुस्त कराने की गुजारिश की गयी है। साथ ही पढ़ाई में बाधा न आएं इसके लिए शिक्षक की प्रतिनियुक्ति कराने की मांग की गयी। अपर समाहर्ता ने जिला शिक्षा अधीक्षक को निर्देश दिया प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी को क्षेत्र भ्रमण कर विद्यालयों की स्थिति के बारे में जिला मुख्यालय को अवगत कराने, औचक निरीक्षण करने साथ ही मध्याह्न भोजन योजना के तहत् मीनू के अनुसार भोजन उपलब्ध कराने एवं अनुपस्थित शिक्षकों पर कार्रवाई कर अनुपालन प्रतिवेदन भेजन का निर्देश दिया।

इसके अलावे जिला के विभिन्न प्रखण्डों से आएं फरियादियों ने अपर समाहर्ता को आवेदन देकर समस्या का निदान करने की गुहार लगाई। जनता दरबार में अन्य फरियादियों में टाना भगतों द्वारा विशुनपुर प्रखण्ड कार्यालय परिसर में सभागार का प्रस्ताव, तिर्रा गांव की सुखैन देवी ने विधवा पेंशन दिलाने के लिए, सदर प्रखण्ड के कसीरा गांव की मालती देवी ने प्रधानमंत्री आवास के लिए, गुमला शहरी क्षेत्र के वार्ड नम्बर 03 के सुअर पालन से होने वाली गंदगी से फैलने वाली गीमारी के बारे में, घाघरा के स्वयं सेवक विरेन्द्र खेरवार व विनोद उरांव ने प्रधानमंत्री आवास की देख रेख, घाघरा के टोहाटोली के खिलपतिया उराँव जमीन का पंजी टू के नकल के संबंध में अपर समाहर्ता को आवेदन देकर न्याय दिलाने की मांग की।जिसके निष्पादन हेतु अपर समाहर्ता ने संबंधित विभाग के पदाधिकारियों को कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

Posted By: Jagran