गोड्डा : जिले में हाईस्कूल शिक्षकों की नियुक्ति के लिए वर्ष 2016 में लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी। जिसमें विभिन्न विषयों के कुल 600 शिक्षकों की बहाली होनी थी लेकिन फरवरी माह में अन्य जिलों के साथ गोड्डा जिले का रिजल्ट प्रकाशित किया गया जिसमें करीब 400 शिक्षकों को विभिन्न विद्यालयों में योगदान कराया गया वहीं इतिहास और नागरिक शास्त्र विषय में यहां 72 पद रिक्त ही रह गए।

हाईकोर्ट में एक याचिका पर फैसला आने के बाद जेएसएससी ने इतिहास और नागरिक शास्त्र विषय के शिक्षकों का रिजल्ट पर रोक लगा दी। बीते 8 माह में उक्त विषय की परीक्षा देने वाले जिले के सैकड़ों अभ्यर्थियों को अब विस चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता लागू होने पर बहाली खटाई में पड़ने की चिता सता रही है। शिक्षकों की नियुक्ति नहीं होने से जिले के 70 उत्क्रमित हाईस्कूल और 49 राजकीय हाईस्कूल में सैकड़ों पद अभी भी रिक्त हैं। उच्च न्यायालय का निर्णय सूबे के अनुसूचित जिलों के लिए था जिसमें कोल्हान सहित दक्षिणी छोटानागपुर के 13 जिले शामिल थे। इसमें गोड्डा जिला नहीं है लेकिन यहां भी इतिहास और नागरिक शास्त्र का रिजल्ट रोक दिया गया है। बता दें कि झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने वर्ष 2016 में हाई स्कूल शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर विज्ञापन प्रकाशित किया था। कालांतर में इसके लिए लिखित परीक्षा ली गई थी। अन्य विषयों के 400 से अधिक शिक्षकों की नियुक्त कर ली गई लेकिन इतिहास और नागरिक शास्त्र विषय के शिक्षकों की बहाली खटाई में पड़ गई। इधर झारखंड कर्मचारी चयन आयोग का कहना है कि सोनी कुमारी प्रकरण पर हाई कोर्ट से स्टे मिलने पर रिजल्ट जारी नहीं किया गया। अब आयोग गैर अनुसूचित जिलों के संबंध में कानूनी राय लेकर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करेगा। ----------------------------------

जिले के अधिकतर हाईस्कूलों में अब रिक्त पदों पर शिक्षकों का पदस्थापन कर दिया गया है। कुछ मामले में कानूनी अड़चने आड़े आ रहीं हैं। इतिहास और नागरिक शास्त्र विषय के 72 पदों के लिए रिजल्ट नहीं होने से बहाली नहीं हो पाई है। इसके लिए सरकार के स्तर से जेएसएससी को पत्राचार किया गया है। यह मामला हाईकोर्ट में लंबित है।

- एसडी तिग्गा, डीईओ, गोड्डा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस