पथरगामा : बिहार झारखंड की सीमा पर स्थित उरकुसिया के पास आपराधिक गतिविधि पर लगाम लगाने के उद्देश्य से बनाया गया चेकनाका समय बीतने के बाद हवा हवाई बनता जा रहा है। चेकनाका सिर्फ सांकेतिक तौर पर ही चल रहा है। चेकनाका में वाहनों को रोकने के लिए बैरियर भी नहीं लगाया गया है। खानापूर्ति के लिए दो चौकीदारों को नियुक्त कर दिया गया है। उन दोनों को वहां बैठे रहने के अलावा और कोई काम नहीं है। कहने को तो यहां मजिस्ट्रेट की भी तैनाती की गई थी। परंतु आज तक किसी को उनका दर्शन नहीं हुआ है। इसी रास्ते से होकर असामाजिक तत्वों का आवागमन पथरगामा और बंसतराय क्षेत्र में होता है। साथ ही अवैध बालू का कारोबार भी इसी रास्ते से होता है। इसी रास्ते होकर हाइवा और ट्रैक्टर में लोड कर अवैध बालू बिहार ले जाया जाता है। पिछले दिनों यहां पर कई आपराधिक वारदात हो चुकी है। परंतु पुलिस प्रशासन ने उससे कोई भी सीख नहीं लिया। लोगों का कहना है कि इस जगह पर पुलिस पिकेट बना देने से कुछ बात बन सकती थी। चौकीदारों के माध्यम से महज सूचना का आदान-प्रदान ही हो पाता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस