गोड्डा : जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वावधान में घाट पहाड़पुर में संविधान दिवस पखवारा के तहत विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान ग्रामीणों को कानून के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी गयी। इस अवसर पर रिटेनर अजीत कुमार , अफसर हसैनन सहित पीएलभी एन कुमार, दिलीप यादव, बैजंती माला आदि ने बाल विवाह, बाल श्रम, संवैधानिक अधिकार, घरेलू हिसा से महिलाओं की सुरक्षा अधिनियम, शिक्षा का अधिकार आदि पर विस्तृत प्रकाश डालें। उन्होंने कहा कि सभी को अपना अधिकारों की रक्षा करने का अधिकार है। अधिकार के साथ- साथ कर्तव्य भी शुरू हो जाता है। कहा कि वर्तमान समय में चुनाव का दौर चल रहा है। चुनाव में निष्पक्ष रूप से वोट देकर स्वच्छ सरकार का गठन कराना हमारा अधिकार है। इसके साथ ही हमारा यह कर्तव्य बनता है कि मजबूत लोकतंत्र के लिए बिना किसी लोभ लालच के मतदान करें। इसमें एक- एक मत बहुत ही कीमती है। किसी किसी भी कीमत पर इसे व्यर्थ नहीं जाने दें। मतदान जरूर करें।इसके अलावा बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के तहत किसी भी 21वर्ष से कम आयु के बालक व 18 वर्ष से कम की बालिका का विवाह निषिद्ध है। यदि ऐसा विवाह संपन्न भी हुआ है तो वह शून्यकरणीय होगा तथा अव्यस्क बालक या बालिका अपने अभिभावक या बाल मित्र की मदद से विवाह को रद्द करने या शून्य घोषित करने को लेकर परिवार न्यायालय या सक्षम न्यायालय में मुकदमा दायर कर सकेंगे। बाल विवाह होने की स्थिति में इसकी रोकथाम को लेकर उपायुक्त, प्रथम श्रेणी न्यायिक मैजिस्ट्रेट, प्रखंड विकास पदाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी को इसकी सूचना दें। वहीं बाल श्रम पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बच्चों को शिक्षित करने की शिक्षा में प्रेरित करने का आह्वान किया। कहा कि बच्चों की बेहतर शिक्षा को लेकर सरकार द्वारा मोटी राशि खर्च की जा रही है। इसलिए नजदीकी स्कूलों में भेजने की आदत डालें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस