संवाद सहयोगी, गोड्डा : झारखंड राज्य में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए तथा झारखंड स्टेट बार काउंसिल रांची ने दिशा निर्देश जारी करते हुए 30 तक न्यायिक कार्य से अधिवक्ताओं को अलग रखा है। शुक्रवार को स्थानीय बार एसोसिएशन भवन में अधिवक्ताओं की आपात बैठक अध्यक्ष सुशील कुमार झा की अध्यक्षता में हुई। इसमें जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए अधिवक्ता, अधिवक्ता लिपिक एवं मुवक्किलों के जान माल के खतरे को ध्यान में रखते हुए सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि आगामी 30 अप्रैल तक जिला अधिवक्ता संघ गोड्डा के सभी अधिवक्ता वर्चुअल, फिजिकल, मोबाइल एप के द्वारा न्यायिक कार्य का संपादन नहीं करेंगे । साथ ही उन्होंने जिला प्रधान सत्र न्यायाधीश से भी दिनांक 30.अप्रैल तक पैरवी के अभाव में किसी भी केस में प्रतिकूल आदेश पारित नहीं करने का निवेदन किया है। संघ के महासचिव योगेश चंद्र झा ने बताया कि बैठक के लिए गये निर्णय की जानकारी झारखंड स्टेट बार , प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश, उपायुक्त गोड्डा तथा अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा को भी दे दी गई है।

बैठक में बार काउंसिल सदस्य धर्मेन्द्र नारायण,संघ के उपाध्यक्ष सीताराम यादव, प्रमोद पंडित,अमोद ठाकुर, चेतन चन्द्र झा, अरविंद मिश्रा, विनय ठाकुर, सुधीर पाठक, अजित वर्मा, भवेश कांत झा,वरीय अधिवक्ता क्रांतिधर सहाय, संजय कुमार, सुबोध पंजियारा, दिलीप तिवारी, सर्वजीत झा, श्यामल ठाकुर, तनुज दुबे, वरूण सिंह, अबुल कलाम आजाद, प्रमोद शर्मा आदि अधिवक्तागण उपस्थित थे। बता दें कि इन दिनों कोरोना के कहर से कई परिवार आक्रांत हैं। इसमें अधिवक्ता भी शामिल हैं।

Edited By: Jagran