तिसरी : जंगलों से पेड़ों की कटाई और पत्थरों का अवैध उत्खनन करने वालों की अब खैर नहीं है। जंगल की सुरक्षा को लेकर ग्रामीण अब एकजुट होने लगे हैं। इसी कड़ी में तिसरी प्रखंड के कई गांवों के ग्रामीणों ने जंगल बचाने और पत्थरों के अवैध उत्खनन पर रोक लगाने का संकल्प लिया। रविवार को वनरक्षी ने घाघरा शिवमंदिर में ग्रामीणों के साथ बैठक की, जिसमें लोकाय, डेलिया, नयनपुर, घाघरा आदि गांवों के ग्रामीण शामिल हुए। इसी बैठक में ग्रामीणों ने यह संकल्प लिया है। बैठक के दौरान जंगल में अवैध तरीके से पेड़ों की कटाई करते पकड़े जाने वालों को सामाजिक दंड देने का निर्णय लिया गया। मौके पर जंगल और पेड़-पौधों की रक्षा करने से होने वाले लाभ के बारे में विस्तृत चर्चा की गई। समाजसेवी जयनारायण यादव ने कहा कि पेड़-पौधों से पर्यावरण स्वच्छ रहता है और हमें शुद्ध व ताजी हवा मिलती है। इससे बीमारियों से बचाव होता है। समय-समय पर अच्छी वर्षा होती है, जिससे जलस्तर बना रहता है। बैठक की अध्यक्षता जगरनाथ तुरी ने की। मौके पर वनरक्षी अशोक यादव, ग्रामीण बाबूलाल यादव, दिनेश यादव, दरोगी यादव, अर्जुन यादव, महेंद्र यादव, मुस्तकीम मियां, अनवर मियां, कालेश्वर रविदास आदि उपस्थित थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस