गिरिडीह : फर्जी बैंक अधिकारी बन साइबर अपराध करने व उस ठगी से अर्जित रुपया को आपस में ही सगे संबंधियों के बीच बांटकर संपति बनाने का खेल भी निराला है। इस साइबर अपराध के धंधे में मुखिया हरि मंडल का ममेरा बहनोई गोविद मंडल, वहीं मंटू मंडल का जीजा जामताड़ा का सुभाष मंडल व डुमरी के जीतकुंडी गांव का रहने वाला सह मरगोडीह का दामाद छोटन मंडल घर छोड़कर ससुराल इलाके में रहकर इस अपराध को संगठित होकर अंजाम देते थे।

धंधे में अलग-अलग तीन बहनोई गांव में रहकर अपने साले के संरक्षण में इस अपराध को बढ़ावा देते हुए आमलोगों के खातों से मेहनत की कमाई को एक फोन कॉल के बाद निजी जानकारी लेकर टपाते हुए पलक झपकते ही खाते को साफ करने के धंधे को अंजाम दे रहे थे। पहले रिश्तों की बुनियाद तैयार करने के बाद एकजुट होकर अलग-अलग तरीकों से रुपया टपाकर अपनी तिजोरी भरते हुए मालामाल हो रहे थे। किसी की मेहनत की कमाई को चट कर उससे कोई आलीशान घर बनाकर विलासिता के सामानों से घर को भरा तो कोई इससे राजधानी में जाकर व्यापार को खड़ा किया। वहीं किसी ने तो कानों में सोने की बाली तो कोई गले में मंहगी सोने की चेन ठगी के पैसे से खरीदकर लटकाए घूम रहा था। कई परिवार साइबर अपराधियों के करतूत से खाली हुए खातों को देखकर मेहनत की कमाई लूटने का रोना रोने में भी लगे रहे जिसके परिणाम स्वरूप पीड़ितों की हाय के कारण साइबर अपराधियों को एक दिन बेनकाब होकर जेल जाना पड़ा।

रांची में पार्लर व अन्य कारोबार : साइबर अपराध में गिरफ्तार मंटू मंडल ने ठगी के पैसे से व्यवसाय खड़ा किया है। इसके तहत रांची में मेन्स पार्लर व पुराने वाहन की खरीद-बिक्री करने की जानकारी पुलिस को मिली है। पुलिस इस मामले को लेकर गहन जांच पड़ताल में जुटी है।

11 जून को एक दर्जन की हुई थी गिरफ्तारी : साइबर अपराध के मामले में साइबर पुलिस ने 11 जून एक दर्जन साइबर अपराधियों को छापेमारी कर गिरफ्तार की थी। गिरफ्तार आरोपितों में राजेश मंडल, संतोष मंडल, फुलचंद मंडल, विकेश प्रसाद वर्मा, बालेश्वर प्रसाद वर्मा, सुधीर प्रसाद वर्मा, बहादुर मंडल, दशरथ मंडल, बबलू मंडल, रूपेश कुमार मंडल, पवन यादव व राजेश मंडल शामिल थे। सभी को 12 जून को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। वहीं 16 जून को आइएमटी विधि से चिरकी स्थित पंजाब नेशलन बैंक की एटीएम शाखा से बारह बार में 99 हजार की निकासी करते हुए एक आरोपित को बैंक प्रबंधक की सूझबूझ से गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार आरोपित मो मुस्ताक अंसारी देवघर जिले के मरगोमुंडा थाना क्षेत्र के चेतनारी गांव का रहनेवाला था।

Edited By: Jagran