गिरिडीह: प्रांतीय सेवा भारती के तत्वावधान में छह दिवसीय प्रांतीय आचार्य सेवा प्रशिक्षण वर्ग का समापन शनिवार देर रात हुआ। 13 से 20 अक्टूबर तक पचंबा स्थित बगेड़िया धर्मशाला में यह प्रशिक्षण चलाया गया। समापन समारोह में सेवा भारती के जिलाध्यक्ष प्रो. सतीश्वर प्रसाद सिन्हा ने कहा कि सेवा भारती सेवा प्रशिक्षण के माध्यम से सेवा के शिल्पकार तैयार कर रही है। सेवा कार्यो से शहरी सेवा में बस्तियों एवं सुदूर क्षेत्रों में संस्कारात्मक व आíथक बदलाव हो रहे हैं। लोग जागरूक हो रहे हैं। इसके पूर्व अतिथियों ने भारत माता के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित किया। प्रशिक्षण वर्ग व सेवा भारती के कार्य के बारे में वर्गाधिकारी अरुणा सिंह ने कहा कि इस छह दिवसीय सेवा प्रशिक्षण वर्ग में 125 सेवाव्रती महिलाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। ये महिलाएं अपने-अपने क्षेत्रों में पहुंचकर सेवा, संस्कार, स्वास्थ्य आदि के प्रति जागरूकता लाने का कार्य करेंगी। अस्मिता कुमारी ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर हृदयस्पर्शी गीत गया। साथ ही नशा मुक्ति पर नाटिका प्रस्तुत की एवं आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम किया गया। प्रशिक्षण वर्ग में संपन्न परीक्षा के परिणाम घोषित किए गए। मौके पर प्रशिक्षुओं ने अपने अनुभव बांटे और सेवा कार्य के लिए संकल्प लिए। धन्यवाद ज्ञापन जिला सचिव मनोज छापरिया व संचालन कुमारी पूजा ने किया। अध्यक्षता मोहन कुमार बगेड़िया ने की। मौके पर राजा झुनझुनवाला, कृष्णा बगेड़िया, नवीन कांत सिंह, आलोक कुमार सिन्हा, संतोष बनर्जी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप