बिरनी: गादी पंचायत के चरघरा निवासी भुवनेश्वर महतो खुले आसमान के नीचे रात काटने को मजबूर है। उसे कोई पुत्र नहीं है। उसकी माली हालत ठीक नहीं है। सरकारी सुविधाओं से महरुम भुवनेश्वर इन दिनों किसी मसीहा की बाट जोह रहा है। बीते दिनों आंधी से भुवनेश्वर के खपड़ैल घर उड़ गया। वर्षों से कच्चे मकान में गुजर-बसर करनेवाले इस परिवार के उपर आफत का पहाड़ टूट पड़ा है। घर के बिना हर समय वो बेचैनी महसूस करता है लेकिन उसे कोई उपाय सामने नहीं दिख रहा। सर पर छत नहीं रहने के कारण वे इन दिनों खुले आसमान के नीचे गुजारा कर रहा है। पंचायत के समाजसेवी अजय कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री को ट्वीट कर मामले से अवगत कराते हुए भुवनेश्वर की मदद करने की गुहार लगाई है। बताया कि यहां के जनप्रतिनिधि और पदाधिकारी भी इस संबंध में कोई संज्ञान नहीं ले रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस