गिरिडीह : जिले के सरकारी विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों को मध्याह्न भोजन का चावल और पैसा दिया जाएगा। कोरोना वायरस को ले इन दिनों स्कूलों के बंद होने के कारण बच्चों की पोषण आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए संयुक्त सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग भारत सरकार के आदेश पर यह निर्देश डीसी राहुल कुमार सिन्हा ने जारी किया है।

पत्र में प्रधानाध्यापकों को अपने-अपने स्कूल में कक्षा एक से पांच में नामांकित छात्र-छात्राओं को बंद अवधि में 100 ग्राम चावल तथा कूकिग कास्ट की राशि 4.48 रुपये प्रत्येक छात्र प्रति दिन की दर से उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। इसी तरह कक्षा छ: से आठ में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को 150 ग्राम चावल और कूकिग कास्ट की राशि 6.71 रुपेा प्रति छात्र प्रति दिन की दर से देना है। कहा गया है कि प्रथम चरण में वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए 17- 31 मार्च तथा दूसरे चरण में 1-14 अप्रैल तक के लिए चावल और राशि देने का निर्देश दिया गया है। इसमें अवकाश के दिनों को शामिल नहीं किया गया है।

इसके अलावा पूरक पोषाहार (अंडा, फल) की राशि भी निर्धारित कार्य दिवस के अनुरूप बच्चों को देनी है। प्रधानाध्यापकों को पंजी संधारित कर वितरण की प्रविष्टि करने का निर्देश दिया गया है। इसमें कक्षा 1-2 के लिए प्राप्तकर्ता विद्यार्थी एवं अभिभावक में से किसी एक तथा कक्षा 3-8 के लिए अभिभावक एवं विद्यार्थी दोनों का हस्ताक्षर कराना अनिवार्य होगा। पहले चरण में 27 व 31 मार्च तथा द्वितीय चरण में 1 व 4 अप्रैल को वितरण करने का निर्देश दिया गया है। इन सभी का वितरण गांव-टोला में जाकर किया जाना है।

पुलिस प्रशासन से मांगा सहयोग : चावल और राशि के वितरण में शिक्षकों को कोई परेशानी न हो, इसके लिए डीएसई अरविद कुमार ने एसपी सुरेंद्र झा से सहयोग करने का अनुरोध किया है। डीएसई ने बताया कि इसके लिए उन्होंने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखा है, ताकि शिक्षकों को गांव आने-जाने व वितरण करने में कोई परेशानी न हो।

शिक्षकों ने किया समर्थन :

जिले के शिक्षकों ने इस आदेश का समर्थन किया है। साथ ही उपायुक्त को पत्र लिखकर आवश्यक सहयोग का अनुरोध किया है। झारखंड स्टेट प्राइमरी टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष अशोक कुमार मिश्रा, जिलाध्यक्ष दीपक कुमार, प्रधान सचिव लक्ष्मी नारायण महथा, प्रदेश संयुक्त सचिव मदन कुमार रत्न, संगठन सचिव मुकेश कुमार, प्रमोद पांडेय आदि ने कहा है कि इस एसोसिएशन के शिक्षक-शिक्षिका राष्ट्र, राज्य व छात्रहित में अपने कर्तव्य का निर्वहन के लिए हमेशा प्रतिबद्ध हैं। वे सभी वर्तमान में विषम परिस्थितियों में भी उक्त कार्य सफलता पूर्वक संपादन के लिए तैयार हैं। इसके लिए उक्त सभी ने पुलिस प्रशासन का सहयोग देने की मांग की है। इधर, अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष विनोद राम ने डीएसई को आवेदन देकर उक्त कार्य के लिए शिक्षकों को फोटोयुक्त पहचान पत्र निर्गत करने, चिकित्सा कर्मियों के समान ही शिक्षकों को भी 50 लाख रुपये के बीमा कवर की घोषणा करने, शिक्षकों को मास्क, सैनिटाइजर, किट आदि उपलब्ध कराने सहित कई अन्य मांग की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस