जागरण संवाददाता, गिरिडीह : खुद को बैंक अधिकारी बता ग्राहकों को सीरियल कॉल कर एटीएम कार्ड ब्लॉक होने का झांसा देकर खातों से रुपये टपाने के चार आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इसका नेतृत्व साइबर डीएसपी संदीप सुमन समदर्शी ने किया। आरोपितों में बेंगाबाद थाना क्षेत्र के जुड़पनिया निवासी विकास कुमार मंडल, महेंद्र मंडल व किशोर मंडल और गांडेय थाना क्षेत्र के रकसकुट्टो निवासी बैजू मंडल शामिल हैं। इनके पास से मोबाइल फोन व अन्य सामग्री बरामद की गई। गिरफ्तार आरोपितों के विरुद्ध साइबर थाने में प्रशिक्षु एसआइ शिवेश सौरभ ने प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पूछताछ करने के बाद चारों आरोपितों को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष पेश किया गया। न्यायालय के आदेश पर उन्हें जेल भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार जुड़पनिया व बांसजोर के पास साइबर अपराधी झांसे में लेकर लोगों से ठगी करने में जुटे हैं। इस बारे में वरीय पुलिस पदाधिकारी को जानकारी दी गई। वरीय पुलिस पदाधिकारी के निर्देश पर साइबर डीएसपी के नेतृत्व में एक टीम बनाकर छापेमारी अभियान चलाया गया। इस क्रम में पाया गया कि जुड़पनिया से कुछ दूर हटकर जंगल-झाड़ी में बैठकर चार युवक सीरियल कॉल करते हुए बैंक अधिकारी बनकर लोगों को एटीएम बंद होने का झांसा देने में लगे थे। पुलिस पर नजर पड़ने पर सभी वहां से भागने लगे। टीम ने खदेड़कर पकड़ा। पूछताछ के क्रम में चारों ने साइबर अपराध के माध्यम से लोगों से ठगी करने की बात स्वीकार की। साथ ही पुलिस को बताया कि ठगी गई राशि को वे लोग फर्जी खाते में ट्रांसफर करते हैं। इसके बाद उस खाते से राशि की निकासी कर आपस में बांट लेते हैं। छापेमारी टीम में उक्त अधिकारियों के अलावा सौरभ सुमन, मंतोष कुमार महतो, मिथिलेश कुमार, वाहिद अंसारी के अलावा अन्य लोग शामिल थे।

आरोपितों के पास से बरामद सामान: साइबर अपराध को अंजाम देने में उपयोग किए जानेवाले कई सामानों को पुलिस की टीम ने आरोपितों के पास से बरामद किया। बरामद सामानों में सात एंड्रायड व सामान्य मोबाइल, दो सीम, एसबीआई का दो एटीएम, इलाहाबाद बैंक का एक एटीएम, चांदनी देवी के नाम से इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया व स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का तीन पासबुक, एक पैन कार्ड व एक आधार कार्ड शामिल हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस