जमुआ (गिरिडीह) : जमुआ प्रखंड कार्यालय के सभागार में मंगलवार को झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ का सम्मेलन आयोजित किया गया। महासंघ के महामंत्री अशोक कुमार सिंह ने सर्वप्रथम प्रखंड कार्यालय में तैनात कर्मियों का हाल जाना और संगठन को मजबूत बनाने पर बल दिया। कहा कि सरकार के समक्ष हमलोगों की 25 सूत्री मांग लंबित है जिस पर आगे की रणनीति बनाने के लिए 23 फरवरी को राज्य कार्यकारिणी की बैठक रांची में आयोजित की गई है, जिसमें आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। उन्होंने जमुआ अंचलाधिकारी द्वारा अपने अधीनस्थ कर्मियों के साथ किए जा रहे व्यवहार का कड़ी निदा की।

कहा कि जमुआ अंचल के लिपिक मनोज कुमार ने अंचलाधिकारी पर आरोप लगाया है कि कंटीजेंसी में एक लाख 12 हजार रुपये की सामग्री की खरीदारी करवा ली गई और अब महीनों बीतने के बावजूद पैसा नही दिया जा रहा है। मांगने पर उन्हें डराया एवं धमकाया जाता है। अमरकिशोर प्रसाद सिंह एवं रूपलाल महतो ने कहा कि बैठक में सारा मामला अंचल एवं अंचलाधिकारी से संबंधित ही आए हैं, लिहाजा संघ के लोग अंचलाधिकारी से मिलकर कार्यशैली में सुधार लाने का आग्रह करेंगे। इसके बाद भी नही मानेंगे तो उपायुक्त से मिलकर शिकायत की जाएगी। महासंघ की जमुआ शाखा का पुनर्गठन किया गया, जिसमें लोकेश सिंह को सम्मानित अध्यक्ष, भरत मांझी को मुख्य संरक्षक, महेंद्र पासवान को संरक्षक, आशुतोष झा को अध्यक्ष, देवंती देवी, रेणु यादव, केएन झा, रामशरण यादव, नन्दलाल महतो, हेमराज महतो एवं विनय पांडेय को उपाध्यक्ष बनाया गया। शाहिद अख्तर को प्रखंड मंत्री, बबलू चौधरी, मो रिजवान, जेम्स हेम्ब्रम, महेंद्र पासवान एवं संदीप कुमार को संयुक्त मंत्री बनाया गया। सोनू कुमार को कोषाध्यक्ष चुना गया।

सम्मेलन को बीडीओ विनोद कुमार कर्मकार ने भी संबोधित कर कर्मियों के हर सुख-दुख में खड़े रहने की बात कही।

मौके पर भरत मांझी,शाहनवाज अख्तर, सुरेंद्र यादव, सुखदेव प्रसाद वर्मा, दीपक कुमार, अमीन अंसारी, चंद्रकिशोर हांसदा, सुरेश वर्मा,याकूब अंसारी, विकास कुमार साव, महेंद्र पासवान, रिजवान आलम,बैजनाथ प्रसाद सिंह, जेम्स हेम्ब्रम, सोनू कुमार, मंजू कुमारी, रेणु सिन्हा आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस