संवाद सहयोगी, गढ़वा : सदर अस्पताल में इलाजरत दो महिलाओं की मौत से गुस्साए उनके स्वजनों ने जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मियों से दु‌र्व्यवहार करने के साथ ही नर्स रूम व प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए खुले कक्ष में तोड़फोड़ भी की। घटना शुक्रवार की रात की है। बाद में होमगार्ड के जवानों व पीसीआर वैन से पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया।

जानकारी के अनुसार डंडई थाना क्षेत्र के बौलिया गांव निवासी राजमोहन पासवान की पत्नी लीलावती देवी व पलामू जिले के रेहला थाना के सिगसिगी गांव के रामचंद्र राम की पत्नी पार्वती देवी 55 वर्ष को शुक्रवार की रात में इलाज के लिए सदर अस्पताल में लाया गया था। इमर्जेंसी ड्यूटी में मौजूद चिकित्सक डा. एसके रमण ने दोनों मरीजों को भर्ती कराया। बताया गया कि लीलावती देवी के साथ आई एक युवती शुरू से ही स्वास्थ्यकर्मियों के साथ दु‌र्व्यवहार कर रही थी। युवती का कहना था कि उसके मरीज का आक्सीजन लेबल कम है। ऑक्सीजन लगाइए। स्वास्थ्यकर्मियों ने चिकित्सक के परामर्श से जरूरी दवा व इंजेक्शन दिए थे, लेकिन ऑक्सीजन सिलिडर उपलब्ध नहीं था। स्वास्थ्यकर्मी इसकी व्यवस्था करने में लगे थे, तब तक पार्वती देवी ने रात 1:30 बजे दम तोड़ दिया। इसके बाद रात 1:40 बजे लीलावती देवी ने भी दम तोड़ दिया। इसके बाद दोनों मृतकों के स्वजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। नर्स रूम में रखे सामान को उठा कर फेंक दिया। लीलावती देवी को लेकर आई युवती ने आयुष्मान भारत के कक्ष का दरवाजा तोड़ दिया और टेबुल पर रखे कंप्यूटर व अन्य सामानों को फेंक दिया। अस्पताल में तैनात होमगार्ड के जवानों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। घटना की सूचना पर पीसीआर वैन से पहुंची पुलिस ने मामला शांत कराया। इसके बाद दोनों मृतका के शव को लेकर उनके स्वजन वहां से चले गए।

Edited By: Jagran