गढ़वा : जिले को खुले में शौचमुक्त बनाने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय है। बनाए गए शौचालय की उपयोगिता सुनिश्चित हो इसके लिए लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। राज्य में खुले में शौच मुक्त हो चुके जिलों के पदाधिकारी व कर्मी गढ़वा जिले को खुले में शौचमुक्त बनाने में सहयोग करेंगे। इसके लिए हजारीबाग व खूंटी जिले से 200 स्वच्छताग्राही की टीम गढ़वा पहुंचेगी। जिसमें हजारीबाग जिले से 160 एवं खूंटी जिले से 40 कर्मी गढ़वा में कैंप करेंगे। टीम के लोग पूरे एक माह तक गढ़वा में रहकर लोगों को स्वच्छता एवं शौचालय के उपयोग के प्रति जागरूक करेंगे। उक्त जानकारी उपायुक्त डा. नेहा अरोड़ा ने पत्रकार वार्ता के दौरान दी। उन्होंने बताया कि शौचालय निर्माण की गुणवता एवं उसकी उपयोगिता सुनिश्चित कराने के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसकी जांच के लिए राज्यस्तरीय टीम भी जिले का दौरा करेगी। इसके अलावा शौचालय निर्माण की गुणवत्ता की जांच के लिए उड़नदस्ता दल का गठन किया गया है। लोगों को जागरूक करने के लिए स्वच्छता सहयोग अभियान भी चलाया जाएगा। प्रखंड समन्वयक व अन्य लोग लोगों को शौचालय की उपयोगिता के बारे में बताएंगे। डीसी ने बताया कि शौचालय निर्माण का लक्ष्य प्राप्त करने में मझिआंव, कांडी व खरौंधी प्रखंड बहुत पीछे हैं। उक्त प्रखंडों में शौचालय निर्माण कार्य को गति देने के निर्देश दिए गए हैं। पत्रकार वार्ता में जिला जनसंपर्क पदाधिकारी अनिल कुमार उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस