संवाद सत्र, श्री बंशीधर नगर (गढ़वा) : पूर्व मंत्री रामचंद्र केशरी ने अनुमंडल पदाधिकारी जयवर्धन कुमार को आवेदन देकर किसानों से धान खरीद में की जा रही धांधली का जांच कर कार्रवाई करने की मांग किया है। आवेदन में लिखा है कि धान क्रय केंद्र रमुना एवं श्री बंशीधर नगर दोनों केंद्रों पर सही किसानों को परेशान किया जा रहा है। धान खरीद का मैसेज छोड़ने व पावती रसीद देने में क्रय अधिकारी दीपक चौबे के द्वारा नाजायज राशि की भारी वसूली की जा रही है। बोरा भी किसानों से ही लिया जा रहा है। जबकि गोरा एफसीआइ को उपलब्ध कराना है। इस परिस्थिति में बोरा की कालाबाजारी से इनकार नहीं किया जा सकता है। बताते चलें कि पिछले वर्ष भी धान क्रय करने में गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई किया गया था तत्कालीन क्रय अधिकारी आलोक कुमार व डीपो प्रभारी कौशल कुमार पर स्थानीय थाने में प्राथमिकी भी दर्ज हुई है बावजूद क्रय अधिकारी दीपक चौबे अपनी कार्यशैली में बदलाव नहीं ला रहे हैं। रमुना प्रखंड के कर्णपुरा गांव निवासी संतोष कुमार गुप्ता ने आवेदन देकर धान क्रय अधिकारी दीपक चौबे पर प्रति क्विटल 170 रुपये नगद नाजायज राशि लेने के बाद ही धान खरीदने का आरोप लगाया है। साथ ही कहा है कि प्रति बोरा 5 किलोग्राम धान अधिक लिया जा रहा है। बोरा भी हम किसानों को ही देना पड़ रहा है। बकौल संतोष गत 8 मार्च को मैसेज आया कि 11 मार्च को आपका धान खरीदा जाएगा। लेकर केंद्र पर आइए। मैसेज के अनुरूप हमने धान लेकर जब क्रय केंद्र पहुंचा तो क्रय अधिकारी दीपक चौबे के द्वारा टालमटोल किया जाने लगा। डीपो प्रभारी प्रेम प्रकाश निराला ने कहा कि निर्धारित दर प्रति क्विटल 170 रुफये देने के बाद ही धान खरीदा जाएगा। करीब एक पखवारे तक दोनों अधिकारी मुझे दौड़ाते रहे लेकिन ध्यान नहीं खरीदे। तब श्री बंशीधर नगर स्थित अनिकेत पैलेस में आकर जब दीपक चौबे को नजायज राशि दिया, तब मेरा धान खरीदा गया। धान खरीदने के बाद भी 15 दिनों बाद पावती रसीद दिया गया।