संवाद सहयोगी, बासुकीनाथ: बासुकीनाथ के दरबार में रविवार को वर्षों से चली आ रही प्राचीन परंपरा व धार्मिक अनुष्ठानों का विधिवत आयोजन किया गया। सुबह मंदिर के पुजारी दिनेश झा ने प्रात:कालीन पूजन की और इसके बाद पंडा-पुरोहित व मंदिर कर्मियों के पूजनोपरांत आम भक्तों के लिए अरघा लगा दिया गया। शाम चार बजे तक अरघा के माध्यम से जलाभिषेक होता रहा। दोपहर की विश्राम व श्रृंगार पूजा के बाद मंदिर का कपाट बंद कर दिया गया। शाम में पुन: कपाट खोलकर बाबा की भव्य रात्रि श्रृंगारी की गई। इसके अलावा मंदिर परिसर के सभी मंदिरों में विराजमान देवी-देवताओं की भी पूजा-अर्चना की गई।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस