अंतिम सोमवारी पर 1.75 लाख कांवरियों करेंगे जलार्पण

- भक्तों की भीड़ को संभालने में प्रशासन की होगी अग्नि परीक्षा

संवाद सहयोगी, बासुकीनाथ (दुमका): मास पर्यंत चलने वाले राजकीय श्रावणी मेला महोत्सव में दिन-ब-दिन भक्तों की बढ़ने वाली भीड़ प्रशासन के लिए काफी चुनौती बन रही है। श्रावण मास की चौथी व अंतिम सोमवारी में भक्तों की बेतहाशा उमड़ने वाली भीड़ में विधि व्यवस्था को बनाए रखने में प्रशासन को खासी मशक्कत करनी पड़ सकती है। इस सोमवारी को अब तक की सबसे ज्यादा भीड़ उमड़ने की संभावना है। कांवरियों को सुगमता पूर्वक जलार्पण कराने की अग्निपरीक्षा प्रशासन के समक्ष होगी। उपायुक्त रविशंकर शुक्ला व एसपी सहित पदाधिकारियों की टीम लगातार सावन मेला पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। सावन माह की चौथी और अंतिम सोमवार में बासुकीनाथ में उमड़नेवाली कांवरियों और डाक कांवरियों की संभावित भीड़ को लेकर प्रशासन हाई अलर्ट पर है। दरअसल सावन की अंतिम सोमवारी के साथ इसके एक दिन बाद मोहर्रम पर्व भी है जिसको लेकर अतिरिक्त सावधानी बरती जा रही है। पहले सोमवार को एक लाख से अधिक तो दूसरे सोमवार को सवा लाख से अधिक और तीसरे सोमवार को लगभग डेढ़ लाख कांवरिया जलार्पण के लिए बासुकीनाथ आये थे। चौथे और अंतिम सोमवार के अवसर पर डेढ़ से पौने दो लाख कांवरियों के पहुंचने की संभावना है। उपायुक्त रवि शंकर शुक्ला रविवार की देर शाम लगभग साढ़े सात बजे बासुकीनाथ पहुंच गये। उन्होंने कांवरिया पथ, संस्कार मंडप, शिव गंगा तट, पूर्वी पश्चिमी एवं उत्तरी द्वार, मेला क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर तैनात कर्मियों के उपस्थिति की जांच की। जलार्पण काउंटर का भी निरीक्षण किया और उसके बाद कंट्रोल रूम में बैठकर सीसीटीवी के माध्यम से पूरे मेला क्षेत्र की निगरानी करते रहे। उपायुक्त ने बताया कि सोमवार को कांवरियों को कतारबद्ध तरीके से अरघा सिस्टम से जलार्पण कराया जाएगा। जलार्पण काउंटर और शीघ्र दर्शनम के तहत जलार्पण की सुविधा भी रहेगी। भीड़ के मुताबिक क्यू कांप्लेक्स के भूतल से लेकर प्रथम व द्वितीय तल का इस्तेमाल किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सावन के अंतिम सोमवार को हंसडीहा के रास्ते बड़ी संख्या में डाक कांवरियों के भी बासुकीनाथ पहुंचने की संभावना है। एक दिन बाद मोहर्रम पर्व होने के कारण सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। डाक कांवरियों के मार्ग पर अतिरिक्त पुलिस बल लगाया गया है। सोशल मीडिया पर भी लगातार निगरानी रखी जा रही है ताकि कोई अफवाह नहीं फैलायी जा सके। उपायुक्त ने बताया कि वह सोमवार को सुबह आठ बजे तक या जबतक कि कांवरियों की भीड़ नियंत्रित नहीं हो जाती है, बासुकीनाथ में कैंप करते रहेंगे।

Edited By: Jagran