संवाद सहयोगी, बासुकीनाथ: कोरोना से बचाव को लेकर सरकार की कोरोना वैक्सीन पूर्णत: सुरक्षित है। वरीय पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि, मीडियाकर्मी, स्वास्थ्यकर्मी सभी कोरोना से बचाव को लेकर यह वैक्सीन ले रहे हैं। इसलिए किसी के बहकावे या अफवाह में बिल्कुल नहीं आएं। जरमुंडी प्रखंड कार्यालय स्थित सभागार में कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने सोमवार को यह बातें कहीं। इस दौरान मंत्री ने राज्यवासियों के लिए खुद को 24 घंटे उपलब्ध बताते हुए अपने सहयोगी मुरारी साह का नंबर सार्वजनिक किया। कहा कि किसी भी प्रकार की आवश्यकता पड़ने पर मोबाइल नंबर 7004363448 पर संपर्क करें।

मंत्री ने कहा कि वैक्सीन को लेकर जनजागरूकता की बेहद आवश्यकता है। इस वैक्सीन के प्रति लोग जागरूक नहीं हो रहे हैं, जो काफी दुखद है। उन्होंने सभी स्तर के समाजसेवी, बुद्धिजीवियों, जनप्रतिनिधियों, नगर निकाय प्रतिनिधि, जागरूक नागरिक, मीडिया कर्मियों से अपील की कि वर्तमान स्थिति में कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर सरकार द्वारा कराए जा रहे वैक्सीनेशन का लाभ उठाएं एवं अन्य लोगों को भी वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि हर कोई वैक्सीन ले रहा है, इसके बावजूद जनसामान्य में इस वैक्सीनेशन को लेकर जागरूकता नहीं आई है। यह काफी दुखद है।

जरमुंडी बीडीओ, सीओ, उपस्थित नागरिक, पुलिस पदाधिकारी, जनप्रतिनिधियों से अपील की कि प्रेरक बनें एवं गलत अफवाह फैलाने वालों पर कानूनी कार्रवाई करें।

बताया कि जरमुंडी सहित पूरे राज्य में कहीं भी दवा की अनुपलब्धता नहीं होने दी जाएगी। आपदा से निपटने के लिए टास्क फोर्स के गठन का निर्देश दिया गया है। समय-समय पर उसकी मॉनीटरिग पुलिस अनुमंडल पदाधिकारी, जरमुंडी अंचलाधिकारी, जरमुंडी प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा की जाएगी। जन-जन तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाना प्रतिबद्धता है। कहा कि उन्होंने उपायुक्त से दूरभाष पर वार्ता कर कह दिया है कि कोरोना से लड़ने के लिए संसाधनों की कमी नहीं होने दी जाएगी। जितने पैसे की आवश्यकता होगी, उपलब्ध करा दिया जाएगा। ------------------

बासुकीनाथ में पशु शरणस्थली का निर्माण जल्द: मंत्री ने कहा कि आने वाले समय में जल्द ही बासुकीनाथ में शरणागत पशुओं के लिए पशु शरण स्थली का निर्माण किया जाएगा। गोशाला निर्माण की लंबे समय से मांग उठ रही थी। इसे वृहद रूप देते हुए पशु शरण स्थली को बजट में शामिल किया गया है। आने वाले समय में जल्द ही यह योजना धरातल पर दिखेगी। अंचलाधिकारी राजकिशोर प्रसाद को पशु शरणस्थली के लिए बासुकीनाथ-जरमुंडी के इर्द-गिर्द स्थल चयन करने का निर्देश दिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप