संवाद सहयोगी, रामगढ़(दुमका) : रामगढ़ के कोआम गांव में शनिवार को पुलिस ने बेटे की शिकायत पर ने छह माह पहले दफनाया गया साठ वर्षीय बायो हेंब्रम का शव कब्र से निकालवाया गया। साथ ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। एसडीओ के आदेश पर बीडीओ की मौजूदगी में यह सारी कार्रवाई हुई। मृतक के बेटे ने पुलिस को आवेदन देकर पिता की हत्या आशंका जताई थी।

छह माह पहले 12 मई को 60 वर्षीय बायो हेंब्रम की मौत हो गई। उस समय उसके दोनों बेटे घर से दूर थे। बड़ा बेटा बाहर मजदूरी करने बंगाल गया हुआ था जबकि दूसरा बेटा नायकी हेम्ब्रम खैरबनी गांव में घर जमाई बनकर रहता है। जिस वक्त बायो की मौत हुई थी उस समय उसकी पत्नी भी हाट गई थी। ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि पेड़ से गिरने के कारण उसकी मौत हो गई। छोटे बेटे ने उस वक्त ग्रामीणों की बात मानकर शव को दफना दिया था।

क्यों लगाया हत्या का आरोप

जुलाई को जब मृतका बड़ा बेटा शनिलाल हेंब्रम गांव लौटा तो उसे पिता की मौत की जानकारी मिली। कुछ दिनों के बाद उसे गांव वालों से ही पता चला कि पिता की पेड़ से गिरकर मौत नहीं हुई थी बल्कि गांव के दुर्गा टुडू ने घर के पीछे कुल्हाड़ी से प्रहार कर उसे मौत के घाट उतार दिया था। इसके बाद शनिलाल ने रामगढ़ थाने में दुर्गा टुडू के खिलाफ पिता की हत्या का आवेदन देने गया तो पुलिस ने दो माह बाद आवेदन देने से इंकार कर दिया। इसके बाद शनिवाल हेंब्रम ने पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस उपमहानिरीक्षक, पुलिस अधीक्षक, उपायुक्त समेत कई वरीय अधिकारी को आवेदन देकर इस मामले में जांच कर आरोपित दुर्गा टुडू के खिलाफ कार्रवाई कि मांग की। वरीय अधिकारी के निर्देश पर रामगढ़ थाने में इस मामले को लेकर प्राथमिकी दर्ज करने के बाद शव को बाहर निकालने के लिए एसडीओ से अनुमति मांगी।

अनुमंडल पदाधिकारी महेश्वर महतो के निर्देश पर दंडाधिकारी की मौजूदगी में दफनाए के शव को कब्र से निकाला गया। अवर निरीक्षक संतोष कुमार ने बताया कि वरीय पदाधिकारी के निर्देश पर शव को निकाल कर जांच के लिए पोस्टमार्टम भेजा गया है। शव पूरी तरह से सड़ चुका है केवल हड्डियां बची हुई है। शव के फारेंसिक जांच के लिए बिसरा समेत अन्य सामग्री को रांची भेजा जाएगा।

Edited By: Gautam Ojha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट