संस, बलियापुर : बेलगढि़या में बीसीसीएल की ओर से अधिग्रहित जमीन को वापस करने की मांग को लेकर गोलमारा के रैयतों का बेलगढि़या में चलाया जा रहा धरना पांचवें दिन बुधवार को भी जारी रहा। टुंडी के झामुमो विधायक मथुरा प्रसाद महतो धरना स्थल पर पहुंचे। विधायक ने रैयतों के आंदोलन का समर्थन किया। कहा कि अधिग्रहित जमीन के एवज में बीसीसीएल प्रबंधन को मुआवजा के साथ नियोजन भी देना भी जरूरी है। बगैर नियोजन दिए जमीन पर कब्जा करना प्रबंधन का कदम गलत है। रैयतों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि वे हमेशा उनके साथ हैं। एमओसीपी भूमि वापसी संघर्ष समिति के अध्यक्ष युद्धेश्वर सिंह, अतुल सिंह, जीत लाल सिंह, जन्मेजय सिंह, शिरीष सिंह, झामुमो के जिला सचिव पवन महतो, रघुनंदन सिंह, हेमंत रवानी, रविद्र सिंह आदि थे। मालूम हो कि जेआरडीए की ओर से बेलगढि़या मौजा में जहां अस्पताल व स्कूल भवन निर्माण किया जाना है। उक्त जमीन गोलमारा के रैयतों के हैं। जमीन का अधिग्रहण बीसीसीएल की ओर से तीन दशक पूर्व किया गया था। रैयतों को मुआवजा राशि तो प्रबंधन ने दे दिया। लेकिन रैयतों को नौकरी नहीं मिली। इसलिए रैयत यहां निर्माण कार्य का विरोध कर रहे हैं। इसके पूर्व धनबाद के सांसद पशुपति नाथ सिंह व झामुमो के जिला अध्यक्ष रमेश टुडू भी धरना स्थल पहुंचकर रैयतों के आंदोलन का समर्थन कर चुके हैं। सांसद ने बीसीसीएल के डीपी से मामले के समाधान की पहल भी की। लेकिन समस्या का समाधान नहीं निकला। रैयतों ने आंदोलन को और तेज करने की चेतावनी दी है।

Edited By: Jagran