धनबाद, जेएनएन। मुकुंदा में ट्यूशन पढ़कर घर लौट रही छ: छात्राओं को कुचलने वाले ट्रक चालक विकास सिंह (38) को मंगलवार को होश आ गया। उसे घटना के बाद स्थानीय लोगों ने पकड़ लिया था व जमकर पिटाई तक दी थी, जिसमें वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया था। इसके बाद उसे इलाज के लिए पीएमसीएच में भर्ती कराया गया। वह पटना (बिहार) के अथमलगोला थाना के करजन गांव का रहने वाला है। घटना के दिन क्या-क्या हुआ, इस पर विकास कुछ ज्यादा नहीं बता रहा है। हालांकि खुद को बेकसूर बता रहा है।

विकास के होश आते ही, पुलिस ने उसे हथकड़ी लगा दी है। हथकड़ी को उसके आठ नंबर बेड से बांध दिया गया है। उसकी सतत निगरानी के लिए दो पुलिस के जवानों की तैनाती वार्ड के बाहर कर दी गयी है। ठीक होने के बाद पुलिस उसे जेल भेजेगी। इधर, विकास से मिलने परिजन अभी तक अस्पताल में नहीं पहुंचे हैं। 

बगल में प्रियंका के परिजन हो रहे आग-बबूला : चालक विकास सिंह सर्जिकल आइसीयू टू में भर्ती है, वहीं सर्जिकल आइसीयू वन में जख्मी छात्रा प्रियंका भर्ती है। चालक के होश आने और बेकसूर बताने पर प्रियंका के परिजन काफी आक्रोशित हैं। परिजनों का कहना है कि चालक अब अपनी चाल चल रहा है। घटना के वक्त इसे ट्रक से लोगों ने पकड़ा था। वार्ड में इसे लेकर तनाव बना हुआ है। 

घटना में दो छात्राओं की हुई मौत : बता दें कि झरिया-बलियापुर मुख्य मार्ग के मुकुंदा के पास शनिवार की शाम ट्यूशन पढ़कर लौट रही छ: छात्राओं को एक तेज रफ्तार ट्रक ने कुचल दिया था। इस घटना में सभी गंभीर रूप से जख्मी हो गई। जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें इलाज के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान सुमन कुमारी (15 साल) और अंजली शर्मा (14 साल) की मौत हो गई। जबकि दो को डॉक्टरों ने रांची रेफर कर दिया था। जबकि नेता कुमारी (15 साल), प्रियंका कुमारी (16 साल) का इलाज पीएमसीएच में ही चल रहा है। सभी 10वीं की छात्रा थीं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस