तापस पालित, पुटकी

मिट्टी का जर्जर मकान, उसकी खपड़ैल छत और उसमें उगे पौधे व कमरे में रखें हजारों लोगों की चिट्ठियां यही पहचान है कुसुंडा क्षेत्र बलिहारी शाखा डाकघर की। अगर आप दूर से इसे देखेंगे तो यह किसी खंडहर से कम नहीं लगेगा। लेकिन नजदीक जाने पर मकान के दीवाल पर टंगा बोर्ड आपको बताएगा कि यह खंडहर नहीं बल्कि डाकघर है। यह डाकघर पिछले 30 वर्षो से इसी मकान पर चल रहा है।

डाकघर में पिछले 30 वर्षो से पोस्ट मास्टर के पद पर तैनात राजेंद्र प्रसाद वर्मा बताते हैं कि शुरुआत से ही यह डाकघर इसी मकान में है। चूंकि इस शाखा का अधिकांश क्षेत्र बीसीसीएल के दायरे में है इसलिए यह डाकघर भी बीसीसीएल की भूमि पर ही है। साथ ही इसका रखरखाव भी बीसीसीएल पीबी एरिया द्वारा किया जाता रहा हैं। उक्त पोस्ट आफिस पुटकी, श्रीनगर, कच्छी बलिहारी, 13 व दो नंबर सहित हजारों की आबादी को सेवा देती है। लेकिन पिछले कई वर्षों से इस शाखा का मरम्मत नहीं होने से यह जर्जर हो गया है। उन्होंने बताया कि इसकी मरम्मत के लिए दो-तीन बार बीसीसीएल के अधिकारियों को पत्र भी लिखा गया है लेकिन किसी ने भी इसकी मरम्मत कराने की पहल नहीं की। साथ ही उन्होंने बताया कि आम दिनों में किसी तरह तो काम चल जाता है लेकिन बारिश के मौसम में हमें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कमरे में रखे चिट्ठी व कागजत को सुरक्षित रखना हम सबके लिए मुश्किल हो जता है। साथ ही सांप-बिच्छू के अलावा यह डर भी लगा रहता है कि कहीं छत न गिर जाए। क्या कहते हैं जिम्मेदार

डाकघर के रखरखाव के विषय में या तो उक्त डाकघर के इंचार्ज बताएंगे या एसडीआइ। मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं हैं। लेकिन यदि किसी दुर्घटना पर कागजातों को क्षति पहुंचती है तो इसकी जवाबदेही डाकघर में कार्यरत कर्मियों की ही होगी।

रंजीत राय, सब-पोस्ट मास्टर, कुसुंडा

---------------------------------------

मुझे डाकघर की वास्तविक स्थिति की जानकारी नहीं है। पहले अधिकारियों को भेज कर उक्त पोस्ट आफिस का निरीक्षण करवाता हूं। इसके पश्चात बीसीसीएल के नियमानुसार जो किया जा सकता है वह किया जाएगा।

पीके मिश्र, जीएम, पीबी एरिया बीसीसीएल

Edited By: Jagran