संवाद सहयोगी, नावागढ़ : मधुबन थाना अंतर्गत सिनीडीह निवासी मुखिया पति बिट्टू चौहान का छोटा भाई 22 वर्षीय युवक दुलारचंद चौहान उर्फ बाउला का शव आवास में फंदे से झूलता मिला। परिजन नीचे उतार कर उसे निचितपुर अस्पताल ले गए जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर मधुबन थाना की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को जब्त कर थाना ले आईं। घटना बुधवार रात करीब साढे नौ बजे की है।

गुरुवार की सुबह दुलारचंद के स्वजन थाना पहुंचे और सिनीडीह के तीन युवकों पर हत्या का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग करने लगे। देखते ही देखते काफी संख्या में लोग थाना पहुंच गए। आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग करते हुए वे थाना के समक्ष ही मुख्य सड़क पर बैठ गए। परिणाम स्वरुप कतरास-नावागढ मार्ग में यातायात अवरुद्ध हो गया। दोनो ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। सड़क से लेकर थाना के अंदर तक जमा लोग आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर नारेबाजी कर रहे थे। धर्माबांध, सोनारडीह ओपी पुलिस के अलावा इंस्पेक्टर रामप्यारे राम मधुबन थाना पर पहुंचे। पुलिस अधिकारियों ने उन्हें शांत करने का काफी प्रयास किया, लेकिन वे अपनी मांग पर अडिग थे। इस दौरान कई बार पुलिस के साथ उनकी नोक झोंक भी हुयी। दोपहर एक बजे डीएसपी निशा मुर्मू थाना पहुंची। दुलारचंद के परिवार के सदस्यों से मामले की जानकारी ली और उनकी मांग को सुना। डीएसपी ने दोषी के खिलाफ कठोर कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए धनबाद भेजा गया और सड़क जाम हटा। दुलारचंद के भाई विद्यासागर चौहान की लिखित शिकायत के आधार पर मधुबन थाना की पुलिस ने नामजद कुणाल चौहान, धर्मेद्र चौहान व जितेंद्र चौहान के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दिया है।

---

क्या है शिकायत

विद्यासागर ने शिकायत में कहा है कि उसका भाई पंद्रह दिनों से अपने घर के बगल स्थित चाचा के घर की देखभाल करता था और उसी घर में रह रहा था। चाचा गांव गए हुए हैं। फुआ उसका खाना लेकर चाचा के घर पहुंची तो देखा कि घर के छत से आठ नौ लोग भाग रहे हैं, जिसमें कुणाल चौहान, धर्मेंद्र चौहान और जितेंद्र चौहान शामिल था। छत के सहारे घर के अंदर गए तो देखा कि भाई रस्सी के सहारे लोहे के एंगल से लटका था। बिट्टू ने पुलिस को बताया कि पूर्व में भी आरोपियों द्वारा मेरे भाई और मेरे साथ मारपीट कर जान मारने की धमकी दी गई थी। डीएसपी निशा मुर्मू ने पर कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद दोषी के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी।

-----

दुधमुंहे नौनिहाल के साथ पत्नी मांग रही थी इंसाफ

दुलारचंद की पत्नी सिमरन देवी की शादी के महज एक साल ही पूरा हुए थे। गोद में 13 दिन का बच्चा लिए थाना में इंसाफ की गुहार लगा रही थी। रोते बिलखते सिमरन रह-रहकर अचेत हो जा रही थी। गोद में पड़ा मासूम को क्या पता कि उसका पिता अब इस दुनिया में नहीं रहा।

------

आरोपितों को पुलिस बचा रही है: मुखिया

सिनीडीह मुखिया सुमन देवी ने कहा कि पुराने मामले में भी इनलोगों पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके कारण आरोपितों का मनोबल बढ़ा हुआ है। आरोपियों ने देवर की हत्या कर साक्ष्य को छुपाने के लिए फांसी से लटका दिया। इससे पूर्व भी आरोपियों ने मेरे पति पर जानलेवा हमला किया था। मगर आज तक पुलिस ने किसी की गिरफ्तारी नही की। बुधवार को देर रात आरोपियों के विरुद्ध लिखित शिकायत देने के बाद भी आरोपियों को गिरफ्तारी नहीं हुई।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021