धनबाद, जेएनएन। दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी मरकज में शामिल होने वाले माैलवियों से देश भर में कोरोना वायरस फैलाव की आशंका और रांची में मेलेशियन महिला के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद झारखंड सरकार ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए झारखंड में माैजूद विदेशी माैलवियों और निजामुद्दीन में तब्लीगी मरकज में शामिल होने वालों की तलाश शुरू कर दी गई है। इसी सिलसिले में धनबाद पुलिस ने मंगलवार को गोविंदपुर प्रखंड के आसनबनी पंचायत की मस्जिद से इंडोनेशिया के दस माैलवियों और मुंबई के दो माैलवियों को बाहर निकाला। इन्हें रात 8 बजे पीएमसीएच में जांच के लिए लाया गया। जांच और सैंपल लेने के बाद सभी को पीएमसीएच के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया।

29 फरवरी को धनबाद आए थे इंडोनेशियाई माैलवी

दिल्ली और रांची की घटना के बाद वरीय पुलिस अधीक्षक किशोर काैशल के निर्देश पर गोविंदपुर इंस्पेक्टर रणधीर कुमार से मंगलवार को आसनबनी मस्जिद में क्वारंटाइन पर रह रहे माैलवियों की जानकारी ली। पुलिस को जानकारी दी गई कि वे विगत 29 फरवरी को गोविंदपुर आए थे। पुलिस ने विगत 24 मार्च को ही पीएमसीएच में उनकी जांच कराई थी। सभी का पासपोर्ट जब्त कर मुखिया के हवाले किया गया है। सभी के लिए आए थे। पासपोर्ट जब्ती और पीएमसीएच में जांच के बाद उन्हें आसनबनी मस्जिद में क्वारंटाइन कर दिया गया था। उनसे कोई मिलता-जुलता नहीं था। गांव वाले खाना का प्रबंध करते थे । इन विदेशी नागरिकों को लेकर गांव के लोग भयभीत भी रहते थे‌।

वासेपुर से सटे पांडरपाला मदरसे से तब्लीगी जमात के 13 हिरासत मेंं

झारखंड सरकार के निर्देश पर बाहर से राज्य में आकर जमे तब्लीगी जमात के सदस्यों की खोच-बीन शुरू कर दी गई है। इसी सिलसिले में पुलिस ने मंगलवार की रात वासेपुर से सटे पांडरपाला स्थित मदरसे से 13 लोगों को हिरासत में लिया। ये सभी यूपी के मऊ के रहने वाले बताए जाते हैं। यहां धर्म प्रचार के सिलसिले में आए हुए थे।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस