Move to Jagran APP

बोकारो-तलगडि़या लाइन के दोहरीकरण के लिए धनगढ़ी गांव के 16 घरों को तोड़ने पहुंची रेलवे, बवाल

बोकारो तलगडि़या रेल लाइन के दोहरीकरण के लिए शनिवार की सुबह धनगढ़ी गांव में अतिक्रमण हटाने का काम प्रारंभ हुआ है। हालांकि ग्रामीण इसका भारी विरोध कर रहे हैं। सुबह से ही गांव में बवाल मचा हुआ है। ग्रामीणों का कहना है कि वे परियोजना को आगे बढ़ने नहीं देंगे।

By Deepak Kumar PandeyEdited By: Published: Sat, 24 Sep 2022 08:12 AM (IST)Updated: Sat, 24 Sep 2022 08:12 AM (IST)
यह जमीन बोकारो स्टील की ओर से अधिग्रहित की गई थी।

जागरण संवाददाता, बोकारो: बोकारो तलगडि़या रेल लाइन के दोहरीकरण के लिए शनिवार की सुबह धनगढ़ी गांव में अतिक्रमण हटाने का काम प्रारंभ हुआ है। हालांकि ग्रामीण इसका भारी विरोध कर रहे हैं। आज सुबह से ही गांव में बवाल मचा हुआ है।

बताया जा रहा है कि यह जमीन बोकारो स्टील की ओर से अधिग्रहित की गई थी। रेल लाइन के दोहरीकरण के लिए बोकारो स्टील ने ही जमीन रेलवे को हस्‍तांतरित की है। इधर, विरोध कर रहे ग्रामीणों का कहना है कि मुआवजे की पूरी रकम उन्हें अबतक नहीं दी गई है और ना ही नियोजन और पुनर्वास की पहल बोकारो स्‍टील प्रबंधन की ओर से की गई है। ऐसे में वे रेलवे की परियोजना को आगे बढ़ने नहीं देंगे।

रेलवे लाइन के दोहरीकरण के लिए गांव के 16 घर को ध्वस्त किया जाना है। मौके पर तैनात दंडाधिकारी चास के प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश चौधरी ने बताया कि सुरक्षा बंदोबस्त के बीच रेलवे की जमीन से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई चल रही है। मौके पर आरपीएफ के महिला और पुरुष बल को तैनात किया गया है।

हाथों में नारे लिखीं तख्तियां लेकर खड़े हैं युवा

विरोध प्रदर्शन कर रहे ग्रामीण बीएसएल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। वे अपने हाथों में प्रबंधन के खिलाफ हाथों में तख्तियां लेकर खड़े हैं। इनमें इंकलाब जिंदाबाद, पहले घर बसाओ फिर घर उजाड़ो, जान दे देंगे पर जमीन नहीं देंगे जैसे नारे लिखे हैं। रेलवे सुरक्षा बल को भी इनका विरोध झेलना पड़ रहा है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.