धनबाद, जेएनएन। सिखों के प्रसिद्ध धर्म स्थल नानक साहिब गुरुद्वारा पाकिस्तान में उपद्रवियों द्वारा की गई पत्थरबाजी को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। साथ ही केंद्र सरकार से इस मामले में पहल कर पाकिस्तान में रह रहे सिखों की सुरक्षा पर गंभीरता से विचार करने की मांग उठ रही है। गुरुद्वारे पर पत्थरबाजी को लेकर शालीमार के मुस्लिम युवाओं में भी आक्रोश है। आक्रोशित युवाओं ने इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान वहां के अल्पसंख्यक सिख समुदाय के लोगों को सुरक्षा देने में सक्षम नहीं हैं।

कांग्रेस के जिला महासचिव आरिफ आलम ने इसका नेतृत्व किया। इस दौरान आरिफ ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को उपद्रवियों पर शीघ्र कार्रवाई कर सिख लोगों की सुरक्षा करनी चाहिए। ऐसा नहीं हुआ तो भारतीय मुसलमान पाकिस्तान को माफ नहीं करेंगे। सपा के मो. गयासुद्दीन गयास ने कहा कि भारत सरकार शीघ्र वहां के सिखों की रक्षा के लिए वार्ता की पहल करें। ताकि पाकिस्तान सरकार उपद्रवियों को जल्द गिरफ्तार कर सके। ऐसा नहीं हुआ तो तीन दिनों के बाद सड़क पर उतरकर पाकिस्तान सरकार के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा।

सपा नेता ने कहा कि पाकिस्तान सरकार उपद्रवियों पर कार्रवाई करने की बजाय घटना को छुपाने में लगी है। भारत के मुसलमान इसकी घोर निंदा करते हैं। साथ ही पाक सरकार से वहां के अल्पसंख्यक सिखों के हितों की सुरक्षा की अपील करते हैं। प्रदर्शनकारियों में शिक्षक शेख अलाउद्दीन, अब्दुल बारीक, नौशाद खान, अब्दुल अजीज, दारा अंसारी, गुलामुद्दीन आदि थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस